Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

बीजेपी से समझौता न होने से अपना दल ने निकाय चुनाव लड़ने से इनकार किया

अपना दल (एस) स्थानीय निकाय चुनाव में इलाहाबाद, मिर्जापुर, सोनभद्र, मऊ, प्रतापगढ़, कानपुर, जालौन और रायबरेली से अपनी पार्टी के प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारना चाहती थी

Bhasha Updated On: Nov 04, 2017 03:51 PM IST

0
बीजेपी से समझौता न होने से अपना दल ने निकाय चुनाव लड़ने से इनकार किया

उत्तर प्रदेश में होने वाले स्थानीय निकाय चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और अपना दल (सोनेलाल) के बीच सीट बंटवारे पर कोई समझौता नहीं हो सकने से नाराज अपना दल (एस) ने विरोधस्वरूप चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है.

अपना दल (एस) के प्रवक्ता अरविंद शर्मा ने बताया कि 'पार्टी इलाहाबाद नगर निगम के मेयर पद के साथ साथ राज्य की विभिन्न नगर पंचायतों और नगर पालिकाओं में चेयरमैन एवं सभासद के पद पर चुनाव लड़ना चाहती थी. इस बारे में दो दिन पहले बीजेपी को पार्टी प्रत्याशियों की सूची दे दी गई थी लेकिन उसने हमारी मांगों पर ध्यान नहीं दिया.' शर्मा ने कहा कि अपना दल (एस) ने फैसला किया है कि वह विरोधस्वरूप उत्तर प्रदेश स्थानीय निकाय चुनाव नही लड़ेगी. यह एक सम्मानजनक विरोध होगा.

उन्होंने कहा कि पार्टी की जिला इकाइयों को निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव में उतरने की इजाजत है.

अपना दल (एस) स्थानीय निकाय चुनाव में इलाहाबाद, मिर्जापुर, सोनभद्र, मऊ, प्रतापगढ़, कानपुर, जालौन और रायबरेली से अपनी पार्टी के प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारना चाहती थी.

गौरतलब है कि वर्ष 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने अपने सहयोगी दलों अपना दल (एस) और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के साथ चुनाव लड़ा था और 403 विधानसभा सीटों में से 325 सीटें जीतकर जबरदस्त जीत हासिल की थी. बीजेपी ने 312 सीटों पर, अपना दल (एस) ने नौ सीटों पर तथा सुहेल देव भारतीय समाज पार्टी ने चार सीटों पर जीत हासिल की थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi