S M L

गृहमंत्री राजनाथ सिंह से दिल्ली के एलजी ने की मुलाकात

पिछले चार दिनों से उपराज्यपाल के घर अनशन पर बैठे हैं मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके सहयोगी

FP Staff Updated On: Jun 14, 2018 06:50 PM IST

0
गृहमंत्री राजनाथ सिंह से दिल्ली के एलजी ने की मुलाकात

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पिछले चार दिनों से उपराज्यपाल अनिल बैजल के घर अनशन पर बैठे हैं. इस बीच धरने का जवाब धरने से देने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) भी मैदान में उतर आई है .बीजेपी के विधायक और आप के बागी विधायक कपिल मिश्रा का धरना सीएम दफ्तर के वेटिंग रूम में जारी है. यह मामला खींचता देख गुरुवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात करने उनके घर पहुंचें.

अरविंद केजरीवाल 11 जून से धरने पर बैठे हैं. उनके साथ उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, मंत्री सत्येंद्र जैन और गोपाल राय भी हैं. आम आदमी पार्टी की मांगों को लेकर सत्येंद्र जैन ने आमरण अनशन का ऐलान कर दिया है.

केजरीवाल के समर्थन में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा भी आ गए हैं. मौजूदा केंद्र सरकार और उपराज्यपाल पर हमला करते हुए सिन्हा ने कहा कि वो एलजी के पास गए थे. लेकिन पुलिस ने उन्हें अंदर नहीं जाने दिया. एलजी को बाबू की संज्ञा देते हुए यशवंत सिन्हा ने ये तक कह दिया कि उसे केंद्र से जो निर्देश मिलेगा वहीं काम करेगा.

क्या हैं केजरीवाल की मांग?

केजरीवाल ने आईएएस अधिकारियों को हड़ताल खत्म करने का निर्देश देने और ‘चार महीनों’ से कामकाज रोक कर रखे अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने सहित तीन मांगें की है. मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मारपीट के मामले के बाद से दिल्ली के आईएएस अधिकारी हड़ताल पर हैं. मुख्यमंत्री का मानना है कि एलजी जानबूझ कर इसके ख़िलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं.

उन्होंने उपराज्यपाल के सामने ये मांग भी रखी है कि काम रोकने वाले आईएएस अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए. साथ ही ‘डोर स्टेप डिलिवरी ऑफ राशन’ यानी घर पर राशन की आपूर्ति की योजना को मंजूर किया जाए. धरने के दिन से ही मुख्यमंत्री और उनके सहयोगी एलजी हॉउस में डटे हुए हैं. इसके जवाब में उधर बीजेपी के नेता और आप के बागी नेता कपिल मिश्रा मुख्यमंत्री आवास में अनशन पर बैठ गए हैं.

बुधवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल ने गृह सचिव राजीव गाबा के साथ मुलाकात की और इस अनशन को पूरी तरह से राजनीतिक करार देते हुए इसमें दखल ना देने की बात कही थी. लेकिन आज वह गृहमंत्री से भी मुलाक़ात करने वाले हैं. ऐसे में इस पूरे मसले से एलजी ख़ुद को कितनी दूर रख पाएंगे पता नहीं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi