S M L

येदियुरप्पा के इस्तीफा देते ही अमित शाह और राहुल गांधी में तेज हुई ज़ुबानी जंग

शाह ने कहा, कांग्रेस ने ना सिर्फ हॉर्स ट्रेडिंग की बल्कि ‘पूरा अस्तबल ही बेच खाया. राहुल का पलटवार-मोदी खुद ‘भ्रष्टाचार’ हैं

Updated On: May 20, 2018 10:32 AM IST

FP Staff

0
येदियुरप्पा के इस्तीफा देते ही अमित शाह और राहुल गांधी में तेज हुई ज़ुबानी जंग

कर्नाटक में जारी सियासी उठापटक के बीच शनिवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी में जमकर जुबानी जंग चली. अमित शाह ने कर्नाटक में जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन की भावी सरकार ‘अपवित्र गठबंधनों’ की सरकार बताया. इसपर राहुल गांधी ने पलटवार करते हुए बीजेपी को संवैधानिक संस्थाओं को 'अपमान' करने वाली पार्टी कहा.

शाह ने उन आरोपों को खारिज किया जिसके तहत कहा जा रहा था कि बीजेपी ‘हॉर्स ट्रेडिंग’ की कोशिश कर रही थी.

शनिवार को कर्नाटक विधानसभा में बहुमत परीक्षण से पहले बीएस येदियुरप्पा ने इस्तीफा दे दिया. इस घटना के बाद कांग्रेस और बीजेपी के नेताओं ने एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप तेज कर दिए. इसी संदर्भ में राहुल गांधी के दिए बयान पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने हमला बोला था.

कर्नाटक में सरकार गिरने के बाद शनिवार को एक कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा कि बीजेपी किसी तरह के जोड़-तोड़ में शामिल नहीं थी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने ना सिर्फ हॉर्स ट्रेडिंग की बल्कि ‘पूरा अस्तबल ही बेच खाया.’ राहुल गांधी की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘भ्रष्टाचारी’ कहे जाने पर शाह ने कहा कि वो कांग्रेस अध्यक्ष की टिप्पणियों की ‘गंभीरता से नहीं लेते.’

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने विश्वास जताया कि उनकी पार्टी 2014 की तुलना में 2019 में अधिक सीटों पर जीत हासिल करेगी.

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार शाम दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा था. राहुल ने आरोप लगाया कि उन्होंने (पीएम मोदी) विधायकों को ‘खरीदने’ को इजाजत दी और वह सभी संवैधानिक संस्थाओं का ‘अपमान’ कर रहे हैं. राहुल ने यह भी आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री मोदी भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहे हैं और वह खुद ‘भ्रष्टाचार’ हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष ने पत्रकारों से कहा कि बेहतर होगा कि राज्यपाल वजुभाई बाला इस्तीफा दें लेकिन मुद्दा उनके इस्तीफे से बड़ा है. मुद्दा यह है कि आज बीजेपी और आरएसएस हर संस्था पर आक्रमण कर रहे हैं. बाद में राहुल ने ट्वीट किया, ‘आखिर में भारत की आवाज और लोकतांत्रिक भावना ही हमेशा अत्याचार पर जीत हासिल करती है.’

राहुल ने आरोप लगाया, ‘खुलेआम प्रधानमंत्री और अमित शाह कांग्रेस पार्टी और जनता दल एस के विधायकों को खरीदने को बढ़ावा दे रहे थे. इसकी ऑडियो रिकॉर्डिंग सबके सामने है.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi