S M L

अमित शाह ने विपक्ष के ‘महागठबंधन’ को किया खारिज, कहा- नहीं पड़ेगा बीजेपी को फर्क

पीएम मोदी ने कहा कि उनकी सरकार देश को भ्रष्टाचार मुक्त करने के लिए अभियान में तेजी लाएगी

Updated On: Feb 12, 2019 09:59 PM IST

Bhasha

0
अमित शाह ने विपक्ष के ‘महागठबंधन’ को किया खारिज, कहा- नहीं पड़ेगा बीजेपी को फर्क

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को विपक्षी दलों द्वारा आगामी लोकसभा चुनाव के लिए एक महागठबंधन बनाने के प्रयासों को खारिज किया और इस बात पर जोर दिया कि इससे बीजेपी के सत्ता में वापसी की संभावनाओं को कोई नुकसान नहीं होगा.

मोदी और शाह की ओर से यह टिप्पणी आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और TDP प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू द्वारा दिल्ली में दिनभर की भूख हड़ताल के विपक्षी एकता का जरिया बनने के एक दिन बाद आई जो कि बीजेपी से मुकाबले के लिए एक महीने से कम समय में दूसरा ऐसा प्रयास था.

19 जनवरी को 22 विपक्षी दल कोलकाता में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी द्वारा आयोजित एक रैली में साथ आए थे. दिल्ली में सत्ताधारी आप राष्ट्रीय राजधानी में मोदी के खिलाफ बुधवार को गैर बीजेपी नेताओं की एक बड़ी रैली की योजना बना रही है.

बीजेपी की चुनावी संभावनाओं पर असर नहीं पड़ेगा

मोदी ने जहां प्रस्तावित ‘महागठबंधन’ को 'महामिलावट' करार देते हुए उसका मखौल उड़ाया और कहा कि इसमें शामिल सभी चेहरे केवल उन्हें धमकाने और कोसने में प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं.

वहीं शाह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास जनता का जबर्दस्त समर्थन होने का दावा करते हुए कहा कि विपक्षी दलों का प्रस्तावित 'महागठबंधन' राज्य स्तर के नेताओं का गठबंधन है जिसके लिए लोकसभा चुनाव में 'कोई संभावना नहीं है.'

शाह ने मोदी का मुकाबला करने के लिए लोकसभा चुनाव से पहले गठबंधन करने की कोशिश कर रहे विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि इससे बीजेपी की चुनावी संभावनाओं पर असर नहीं पड़ेगा.

मोदी ने कहा कि उनकी सरकार देश को भ्रष्टाचार मुक्त करने के लिए अभियान में तेजी लाएगी. उन्होंने दावा किया कि केवल ऐसे लोगों को ही उनसे दिक्कत है जबकि ईमानदार ‘चौकीदार’ पर भरोसा करते हैं.

प्रधानमंत्री ने ‘स्वच्छ शक्ति 2019’ कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए अभियान के प्रति लोगों से समर्थन मांगा. यह कार्यक्रम इस साल दो अक्टूबर तक देश को खुले में शौच से मुक्त बनाने और स्वच्छता के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में स्वच्छ भारत मिशन में ग्रामीण महिलाओं की भूमिका को रेखांकित करने के मकसद से आयोजित किया गया था.

उन्होंने कहा, '2014 में, आपने एक ईमानदार और पारदर्शी सरकार के लिए वोट दिया. बिचौलियों और गरीबों के अधिकार छीनने वालों को सभी व्यवस्थाओं से बाहर कर दिया गया.'

उन्होंने कहा, 'देश में हर ईमानदार आदमी इस ‘चौकीदार’ पर भरोसा करता है लेकिन जो भ्रष्ट हैं, उन्हें मोदी से परेशानी है.' मोदी ने कहा कि हरियाणा में कुछ लोग अपने खिलाफ जारी जांच एजेंसियों की पड़ताल से परेशान हैं. उन्होंने किसी का नाम लिए बगैर कहा, 'हरियाणा में भी, आप इस बात के गवाह हैं कि कैसे कुछ लोग जांच एजेंसियों की पड़ताल को लेकर परेशान हैं.'

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ राज्य में भूमि सौदों में कथित अनियमितता को लेकर जांच चल रही है.

प्रधानमंत्री ने विपक्ष के प्रस्तावित महा-गठबंधन का 'महा-मिलावट' के तौर पर उपहास उड़ाते हुए कहा कि इसमें शामिल सभी चेहरे धमकी देने और मोदी को कोसने में शामिल हैं. उन्होंने कहा, 'इस ‘महा-मिलावट’ में शामिल सभी चेहरों में जांच एजेंसियों, अदालतों और मोदी को धमकाने और कोसने की होड़ है.'

मोदी ने कहा, 'लेकिन आप आश्वस्त रहिये, यह ‘चौकीदार’ उनकी धमकियों और गालियों से न तो डरेगा और न ही उसे धमकाया जा सकता है, वह न रुकेगा और न झुकेगा. इस देश को भ्रष्टों से मुक्त कराने के लिये हमारा ‘सफाई’ अभियान आगे और तेज होगा. इस अभियान के लिए, आपका आशीर्वाद जारी रहना चाहिए.' शाह ने विपक्षी दलों से जानना चाहा कि प्रधानमंत्री पद के लिए उनका ‘चेहरा’ और प्रस्तावित महागठबंधन के लिए उनका नेता कौन है.

इसका कोई असर नहीं पड़ेगा

शाह ने अहमदाबाद में ‘मेरा परिवार- बीजेपी परिवार’ अभियान शुरू करने के बाद गुजरात के बीजेपी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को जरूरतमंदों की सेवा जारी रखने में सक्षम बनाने के लिए पूर्ण बहुमत की सरकार आवश्यक है.

उन्होंने कहा, 'विश्व में भारत के महाशक्ति बनने के लिए 2019 का आम चुनाव एक महत्वपूर्ण कदम है. मैं देशभर में घूमा हूं और मैं देख सकता हूं कि लोग चट्टान की तरह मोदी के साथ खड़े हैं. मैंने लोगों की आंखों में मोदी के लिए प्रेम देखा है.' शाह ने कहा कि बीजेपी कार्यकर्ता उनसे महागठबंधन के बारे में पूछते हैं. 'मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि इसका कोई असर नहीं पड़ेगा.'

उन्होंने कहा, 'यदि (पूर्व प्रधानमंत्री एवं जनता दल-सेक्युलर (जदएस) सुप्रीमो) देवगौड़ा गुजरात में भाषण देते हैं या (पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री) ममता बनर्जी महाराष्ट्र में भाषण देती हैं या (उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री) अखिलेश यादव केरल में भाषण देते हैं, तो क्या होगा? इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा क्योंकि वे केवल राज्य स्तर के नेता हैं.'

बीजेपी अध्यक्ष ने पार्टी कार्यकर्ताओं से लोगों तक पहुंच बनाने की अपील करते हुए कहा कि वे चिंता नहीं करें क्योंकि आगामी आम चुनाव में विपक्षी दलों की 'कोई संभावना नहीं' है.

उन्होंने कहा, 'मैं चाहता हूं कि इस महागठबंधन के सदस्य प्रधानमंत्री पद के लिए अपने उम्मीदवार की घोषणा करें. आपका नेता कौन है? इस देश को कौन चलाएगा? हम इस बात को लेकर बिल्कुल स्पष्ट हैं. मोदी जी राजग उम्मीदवार होंगे और केवल वही हमारा नेतृत्व करेंगे.'

लोकसभा में सर्वाधिक 80 सीटों वाले राज्य उत्तर प्रदेश में बीजेपी की संभावनाओं पर टिप्पणी करते हुए शाह ने कहा कि पार्टी वहां '74 से कम सीटें नहीं जीतेगी.'

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में भ्रष्टाचार को खत्म करने और विभिन्न कार्यक्रमों के जरिए 22 करोड़ लोगों को संबल देने का काम किया है.

शाह ने कहा, 'मैं सभी पार्टी कार्यकर्ताओं से कहना चाहता हूं कि मोदी सरकार ने ऐसा कुछ नहीं किया है जिससे बीजेपी कार्यकर्ताओं के सिर शर्म से झुकें. लोगों से गर्व के साथ मिलिए, वे मोदी जी का स्वागत करने के लिए तैयार हैं.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi