S M L

नोटबंदी से परेशान जनता लाइन में लगकर हिसाब चुकता करेगी: अखिलेश

अखिलेश और राहुल को लगता है कि गठबंधन हो जाने से वो यूपी में बीजेपी को हरा पाने में कामयाब होंगे

Updated On: Jan 29, 2017 06:15 PM IST

IANS

0
नोटबंदी से परेशान जनता लाइन में लगकर हिसाब चुकता करेगी: अखिलेश

समाजवादी पार्टी और कांग्रेस उत्तर प्रदेश विधानसभा का चुनाव साथ मिलकर लड़ेंगे. रविवार को लखनऊ में यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने ज्वाइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि 'हाथ' का साथ मिलने से साइकिल की रफ्तार और बढ़ेगी.

उन्होंने कहा कि 'एसपी और कांग्रेस का यह गठबंधन उत्तर प्रदेश को विकास और खुशहाली के रास्ते पर ले जाएगा'.

अखिलेश ने कहा 'हम राहुल के साथ लोकसभा में भी काम कर चुके हैं और कई मौकों पर हमारी मुलाकात भी होती रहती है. हम दोनों एक साथ मिले हैं और गठबंधन बना है तो अब हम दोनों की जिम्मेदारी है कि यूपी को खुशहाली के रास्ते पर लेकर आगे जाएं'.

Rahul-Akhilesh 1

राहुल-अखिलेश मानते हैं कि गठबंधन होने से वो बीजेपी को यूपी में हरा पाने में सफल होंगे (फोटो: पीटीआई)

अखिलेश ने ये भी कहा कि 'आबादी के लिहाज से यूपी बहुत बड़ा राज्य है. यूपी ने देश को कई प्रधानमंत्री दिए हैं. हमें उम्मीद है कि इस गठबंधन के बाद हम यूपी में 300 से अधिक सीटें जीतेंगे. जो लोग बंटवारे की राजनीति करते हैं, उनके खिलाफ यह गठबंधन काफी कारगर साबित होगा'.

जनता चुनाव में हिसाब चुकता करेगी

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन्होंने लोगों को 'अच्छे दिन' के सपने दिखाए थे, आज वे यह नहीं बताते कि 'अच्छे दिन' कहां हैं. नोटबंदी के नाम पर लोगों को लाइन में खड़ा कर दिया गया. अब यही जनता लाइन में लगकर अपना हिसाब चुकता करेगी.

दोनों नेताओं ने कहा कि इस गठबंधन से देश में एक संदेश जाएगा और देश की राजनीति की एक नई दिशा तय होगी.

Rahul-Akhilesh 2

यूपी में एसपी-कांग्रेस गठबंधन, बीएसपी और बीजेपी के बीच कांटे की टक्कर है (फोटो: पीटीआई)

अखिलेश से जब यह पूछा गया कि समाजवादी पार्टी सरकार के 'काम बोलता है' के नारे के बाद गठबंधन की जरूरत क्यों पड़ी. इसपर उन्होंने कहा 'अच्छा है कि मीडिया को भी यह लग रहा है कि सरकार का काम बोल रहा है. मैं कहना चाहता हूं कि काम के दम पर जीत की पूरी गारंटी थी, लेकिन 'हाथ' का साथ मिलने के बाद अब यह और मजबूत होकर निकलेगा'.

लोकसभा की बात करना अभी जल्दबाजी

हालांकि, अखिलेश इस सवाल को टाल गए कि जिस तरह से कांग्रेस विधानसभा चुनाव 2017 में उन्हें मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर स्वीकार कर रही है. तो क्या लोकसभा चुनाव 2019 में वह राहुल को बतौर प्रधानमंत्री उम्मीदवार अपना समर्थन देंगे?

अखिलेश ने कहा कि 'अभी यह गठबंधन विधानसभा चुनाव के लिए बना है. ऐसे में लोकसभा की बात करना अभी जल्दबाजी होगी'.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi