S M L

महाराष्ट्र: मुस्लिमों के लिए आरक्षण की मांग को लेकर हाईकोर्ट जाएगी ओवैसी की AIMIM

एआईएमआईएम नेता इम्तियाज जलील ने कहा है कि हम सरकार के इस फैसले को चुनौती नहीं देंगे लेकिन हम नए तथ्यों के साथ कोर्ट जाएंगे और मुस्लिम आरक्षण के लिए मांग करेंगे

Updated On: Nov 30, 2018 02:06 PM IST

FP Staff

0
महाराष्ट्र: मुस्लिमों के लिए आरक्षण की मांग को लेकर हाईकोर्ट जाएगी ओवैसी की AIMIM

महाराष्ट्र सरकार ने गुरुवार को मराठा समाज के लिए 16 प्रतिशत आरक्षण दे दिया है. सरकार के इस फैसले से मराठा समाज के लोगों में खुशी है. लेकिन कई अन्य समाज के लोग सरकार के इस फैसले के बाद अपने लिए आरक्षण की मांग कर रहे हैं. असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने अब मुस्लिमों के आरक्षण के लिए मुंबई हाईकोर्ट का रुख किया है.

एएनआई के मुताबिक, एआईएमआईएम नेता इम्तियाज जलील ने कहा है कि हम सरकार के इस फैसले को चुनौती नहीं देंगे लेकिन हम नए तथ्यों के साथ कोर्ट जाएंगे और मुस्लिम आरक्षण के लिए मांग करेंगे.

इससे पहले ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लमिन (एआईएमआईएम) के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी ने मुस्लिमों के लिए आरक्षण की मांग की थी. उनका कहना था कि मुस्लिम भी आरक्षण के हकदार हैं क्योंकि वह पीढ़ियों से गरीबी में रहे हैं.

हैदराबाद सांसद ने महाराष्ट्र विधानसभा में मराठा आरक्षण विधेयक पेश होने के कुछ समय बाद ही ट्वीट करते हुए लिखा कि सार्वजनकि शिक्षा और रोजगार में पिछड़े मुसलमानों को वंचित करना एक गंभीर अन्याय है. मैं लगातार कहता रहा हूं कि मुस्लिमों में पिछड़ी जातियां हैं जो पीढ़ियों से गरीबी में रह रही हैं. आरक्षण के जरिए इस सिलसिला को तोड़ा जा सकता है.

ऐसा नहीं है कि मराठाओं को आरक्षण मिलने के बाद सिर्फ मुस्लिम समुदाय के लोग ही अपने लिए आरक्षण की मांग कर रहे हैं बल्कि महाराष्ट्र में रह रहा राजपूत समाज भी अपने लिए इसी तरह आरक्षण की मांग कर रहा है. हालांकि उनका कहना है कि आरक्षण देने का आधार जातिगत नहीं बल्कि आर्थिक होना चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi