S M L

सीएम मैं ही बनूंगी: शशिकला

शशिकला ने कहा, पन्नीरसेल्वम को डीएमके का सपोर्ट है

Updated On: Feb 09, 2017 09:20 AM IST

FP Staff

0
सीएम मैं ही बनूंगी: शशिकला

करीब दो महीने पहले जब जयललिता की मौत हुई और ओ पन्नीरसेल्वम को मुख्यमंत्री बनाया गया तो ऐसा लग रहा था कि शशिकला का हाथ पन्नीरसेल्वम के सिर पर है. लेकिन पिछले कुछ दिनों की हुई घटनाक्रम के बाद यह साफ हो गया है कि पन्नीरसेल्वम और शशिकला एकसाथ नहीं बल्कि आमने सामने हैं.

नेटवर्क 18 को दिए एक एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में वीके शशिकला ने पन्नीरसेल्वम को 'एआईएडीएमके में धोखेबाज' बताया गया है. उन्होंने कहा कि पन्नीरसेल्वम को डीएमके का सपोर्ट हासिल है, जो 'एआईएडीएमके को बर्बाद कर देना चाहती है.'

शशिकला ने कहा, 'पन्नीरसेल्वम असेंबली में जिस तरह से बर्ताव कर रहे थे, ऐसा लग रहा है कि वह डीएमके में से हैं.'

उन्होंने कहा कि 7 फरवरी को ओ पन्नीरसेल्वम झूठे आरोपों और नई सफाई के साथ आए. हालांकि वे सारी बातें आधारहीन और झूठी हैं.

शशिकला ने कहा कि पन्नीरसेल्वम पार्टी के विधायकों के साथ मुझसे पोएस गार्डन में मिलने आए. मैंने उनसे कहा कि वे चिंता न करें मैं एआईडीएमके को अम्मा के रास्ते पर आगे ले जाउंगी. मैंने सभी शीर्ष नेताओं से कहा कि वे दुखी न हों.

बैठक के बाद वे सभी वहां से चले गए. बाहर समर्थकों की भीड़ इकट्ठी थी. वे शोरगुल कर रहे थे. मैंने बाहर जाकर सभी का अभिवादन किया और उनसे कहा कि मैं उनके साथ हूं.

राज्यपाल को चिट्ठी भेजने तक मुझे ऐसी कोई बात सुनने को नहीं मिली. हमें जब यह पता चला कि राज्यपाल मुंबई में हैं तब हमने उन्हें वहां चिट्ठी भेजी. उन्हें चिट्ठी मिल गई है लेकिन शपथ ग्रहण में देरी की वजह का पता नहीं चल पाया है.

किसी भी तरह की जांच के लिए तैयार हैं शशिकला 

जब शशिकला से यह पूछा गया कि क्या यह देरी राजनीतिक कारणों से हो रही है तो इसके जवाब में उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि राज्यपाल किसी राजनीतिक वजह से मुझे शपथ के लिए आमंत्रित नहीं कर रहे हैं.

शशिकला ने कहा कि पार्टी के सभी सदस्यों ने मुझे पार्टी का नेतृत्व करने को कहा और यह कहा कि पन्नीरसेल्वम हैं कौन.

शशिकला ने पन्नीरसेल्वम के इस बयान को भी खारिज कर दिया कि उन्हें पद से इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया गया. शशिकला ने कहा कि मुझे नहीं पता कि इन सब के पीछे कौन है. इसका जवाब सिर्फ आने वाले वक्त दे सकता है.

शशिकला ने यहाँ भी कहा कि 5 दिसंबर, 2016 को विधायकों ने मुझे अपना नेता चुना था. इसके रिकॉर्ड भी मौजूद हैं. इसके बाद शाम को मैं राज्यपाल के दफ्तर में गई. मुझे कहा गया कि वे उटी गए हैं.

उस वक्त सभी विधायक मेरे साथ थे. इस वजह से हमने सभी विधायकों के दस्तखत सहित एक चिट्ठी राज्यपाल को फैक्स किया.

मौजूदा राजनीतिक हालात में तमिलनाडु के राज्यपाल की निंदा करते हुए शशिकला ने कहा, ‘राज्यपाल ने मेरे पत्र पर अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.’

जयललिता के इलाज से जुड़े सभी अफवाहों को खारिज करते हुए शशिकला ने कहा कि वो किसी किसी भी तरह के जांच का सामना करने के लिए तैयार हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi