S M L

फेक न्यूज पर नजर रखने के लिए दिल्ली के 1,800 व्हाट्सऐप ग्रुप से जुड़ेंगे अमित शाह

2019 लोकसभा चुनाव से पहले दिल्ली बीजेपी मंडल स्तर पर टीमों का सिरे से गठन कर रही है, इस कदम का लक्ष्य सीधे सूचना मुहैया कराना और फर्जी खबरों पर रोक लगाना है

Bhasha Updated On: Jul 21, 2018 07:37 PM IST

0
फेक न्यूज पर नजर रखने के लिए दिल्ली के 1,800 व्हाट्सऐप ग्रुप से जुड़ेंगे अमित शाह

आगामी लोकसभा चुनावों की तैयारियों के चलते दिल्ली बीजेपी 1,800 व्हाट्सऐप ग्रुप बनाएगी. कार्यकर्ताओं को सीधे सुचना देने की मंशा से बनाए गए इन ग्रुप्स में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को भी जोड़ा जाएगा. बीजेपी के मुताबिक शाह को ग्रुप में जोड़ने का मकसद फेक न्यूज पर काबू पाना है.

हर ग्रुप में जोड़े जाएंगे शाह और तिवारी

2019 लोकसभा चुनाव से पहले दिल्ली बीजेपी मंडल स्तर पर टीमों का सिरे से गठन कर रही है. इसी के साथ पार्टी के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को व्हाट्सऐप सहित अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर ला रही है. ताकि कार्यकर्ताओं से सीध तौर पर जुड़ा जा सके.

दिल्ली बीजेपी के मीडिया मामलों के प्रमुख और सोशल मीडिया इकाई के सह प्रभारी नीलकांत बख्शी ने बताया, 'हम पार्टी के सभी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लाने की कोशिश कर रहे हैं. अब तक 1800 से ज्यादा व्हाट्सऐप ग्रुप बनाए गए हैं और इसकी संख्या बढ़ ही रही है. इस कदम का लक्ष्य सीधे सूचना मुहैया कराना और फर्जी खबरों पर रोक लगाना है.' उनका कहना है कि व्हाट्सऐप के हर ग्रुप में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और दिल्ली के बीजेपी प्रमुख मनोज तिवारी के मोबाइल नंबर होंगे.

फेक न्यूज से पार्टी को होता है नुकसान

पिछले महीने एक बैठक में शाह ने सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने वाले अपने कार्यकर्ताओं और नेताओं को फर्जी समाचार पोस्ट करने और गलत संदेश फैलाने से बचने की हिदायत दी थी. उनका कहना था कि इससे पार्टी की विश्वसनीयता को नुकसान पहुंचता है.

उन्होंने बताया कि पार्टी ने आने वाले महीनों में जिला और मंडल स्तर पर सोशल मीडिया को लेकर बैठकें करने की योजना बनाई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संदेश और बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार की उपलब्धियों को सोशल मीडिया पर फैलाने के लिए बैठकें की जाएंगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi