S M L

खुद सिद्धारमैया के बाद अब कांग्रेस मंत्री का दावा, वो फिर से मुख्यमंत्री बन सकते हैं

कांग्रेस विधायक और जेडीएस के पूर्व नेता चेलुवारया स्वामी ने भी इसी तरह की प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने भी सिद्धारमैया का समर्थन किया है और पूर्व मुख्यमंत्री को अलग- थलग करने की कोशिश करने वालों की आलोचना की

Updated On: Aug 27, 2018 10:42 PM IST

FP Staff

0
खुद सिद्धारमैया के बाद अब कांग्रेस मंत्री का दावा, वो फिर से मुख्यमंत्री बन सकते हैं

कर्नाटक के कृषि मंत्री शिवशंकर रेड्डी ने कहा है कि सिद्धारमैया फिर से मुख्यमंत्री बन सकते हैं, बशर्ते कि वो गठबंधन साझेदार- कांग्रेस और जेडीएस समन्वय समिति की बैठक में इस बारे में फैसला करे. पिछले दिनों सिद्धारमैया के फिर से मुख्यमंत्री बनने की इच्छा जाहिर की थी. इसके बाद कांग्रेस- जेडीएस गठबंधन के बीच सब कुछ ठीक नहीं रहने की अटकलों ने रफ्तार पकड़ी है.

राज्य में सरकार के भविष्य के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में रेड्डी ने कहा, 'हम सब ने सिद्धारमैया के नेतृत्व में चुनाव लड़ा था.' उन्होंने कहा, 'हालांकि कांग्रेस के सत्ता में आने और उनके (सिद्धारमैया के) मुख्यमंत्री बनने की संभावना थी, पर यह सभी जानते हैं कि कुछ कारणों को लेकर हम बहुमत नहीं हासिल कर सके. इसलिए, उन्होंने फिर से मुख्यमंत्री बनने का मौका गवां दिया.'

उन्होंने चामराजनगर में संवाददाताओं से कहा, 'मान लीजिए कि दोनों पार्टियां (कांग्रेस और जेडीएस) समन्वय समिति की बैठक में एक साथ बैठती है और किसी बदलाव के लिए कुछ फैसला लेती है, तब बदलाव होगा.'

कांग्रेस विधायक और जेडीएस के पूर्व नेता चेलुवारया स्वामी ने भी इसी तरह की प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने भी सिद्धारमैया का समर्थन किया है और पूर्व मुख्यमंत्री को अलग- थलग करने की कोशिश करने वालों की आलोचना की.

उन्होंने कहा, 'सिद्धारमैया को कोई भी अलग- थलग नहीं कर सकता. उनके पास नेतृत्व क्षमता है. कद्दावर शख्सियत वाले सिद्धारमैया ईमानदार हैं और उन्होंने काफी सारे अच्छे काम किए हैं.' उन्होंने कहा कि जाति आधारित राजनीति के चलते चुनाव नतीजे प्रतिकूल रहे. लेकिन सिद्धारमैया के पांच साल के शासनकाल ने देशभर में सराहना बटोरी. फिर से मुख्यमंत्री बनने से सिद्धारमैया को पार्टी के अंदर और बाहर अलग थलग किए जाने की कथित कोशिशों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि सिद्धरमैया के नेतृत्व में कांग्रेस ने 80 सीटें हासिल की. पार्टी में उन पर कोई सवाल नहीं उठा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi