S M L

'आधी रात को मुख्य सचिव की पिटाई' की कहानी में कितनी हकीकत, कितना फसाना

दिल्ली में केजरीवाल सरकार के तीन साल पूरे होने पर जश्न का दौर अभी थमा भी नहीं था कि प्रदेश के एक आला आईएएस अधिकारी के साथ आप विधायकों की मारपीट के मामले ने प्रदेश सरकार को कठघरे में खड़ा कर दिया है

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Feb 20, 2018 09:45 PM IST

0
'आधी रात को मुख्य सचिव की पिटाई' की कहानी में कितनी हकीकत, कितना फसाना

दिल्ली में केजरीवाल सरकार के तीन साल पूरे होने पर जश्न का दौर अभी थमा भी नहीं था कि प्रदेश के एक आला आईएएस अधिकारी के साथ आप विधायकों की मारपीट के मामले ने प्रदेश सरकार को कठघरे में खड़ा कर दिया है. आम आदमी पार्टी के दो विधायकों पर आरोप है कि उन्होंने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की मौजूदगी में मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ हाथापाई की और उनके लिए अपशब्द भी बोले.

दिल्ली सरकार के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी के साथ आप विधायकों की इस बदसलूकी के खिलाफ आईएएस एसोसिएशन ने कड़ा रुख अख्तियार करते हुए हड़ताल शुरू कर दी है. आईएस एसोसिएशन ने मंगलवार शाम को राजघाट पर कैंडल मार्च निकालकर अपना विरोध दर्ज कराया है. आला प्रशासनिक अधिकारियों ने एक सुर में मामले को लेकर आरोपी विधायकों की गिरफ्तारी और आप सरकार को बर्खास्त करने की मांग की है.

आईएएस एसोसिएशन ने साफ किया है कि कार्रवाई न होने की सूरत में उनके लिए काम करना मुश्किल होगा. एसोसिएशन का कहना है कि जब तक आरोपी विधायक मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से माफी नहीं मांग लेते और वे उन्हें माफ नहीं कर देते, वे काम पर नहीं लौटेंगे.

arvind kejriwal

घटना के खिलाफ आईएएस एसोसिएशन के साथ दिल्ली प्रशासनिक अधीनस्थ सेवा संघ ने भी हड़ताल पर जाने की घोषणा की है. घटना को गंभीरता से लेते हुए संघ ने भी साफ कहा है कि जब तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होती है वे काम पर नहीं लौटेंगे.

इस घटना से गुस्साए सचिवालय कर्मचारियों ने भी आज सचिवालय में हंगामा किया. बताया जा रहा है कि उग्र कर्मचारियों ने आप सरकार के मंत्री इमरान हुसैन और आप नेता आशीष खेतान के साथ सचिवालय में धक्कामुक्की भी की. इस घटना में मंत्री के एक सहयोगी को चोटें भी आई हैं. सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने बाद में हालात को अपने काबू में लिया.

बदसलूकी मामले के खिलाफ दिल्ली सरकार के अधिकारियों के इस आक्रामक तेवर से नया संकट खड़ा हो गया है. लेकिन अधिकारियों के इन आरोपों के बीच आम आदमी पार्टी पूरे मामले पर पर्दा डालती हुई नजर आ रही है. आप विधायक अमानतुल्लाह खान ने मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के आरोपों को पूरी तरह बेबुनियाद और निराधार बताया है. खान ने मुख्य सचिव पर झूठ बोलने का आरोप लगाया है. खान का कहना है कि उनके साथ किसी तरह की बदसलूकी नहीं की गई है.

इस घटना पर दिल्ली के सीएम ऑफिस ने भी मामले की गंभीरता को समझे बिना ही उल्टे मुख्य सचिव पर ही आरोप जड़ दिए हैं. सीएम कार्यालय की ओर से ये कहा गया है कि मुख्य सचिव अंशु प्रकाश ने ही आप के दो विधायकों प्रकाश जरवाल और अजय दत्त के साथ बदसलूकी की जबकि विधायकों की ओर से ऐसा कुछ नहीं किया गया.

दिल्ली के अंबेडकर नगर से आप विधायक और मीटिंग के वक्त वहां मौजूद अजय दत्त फर्स्टपोस्ट हिंदी से बात करते हुए कहते हैं, ‘देखिए सोमवार रात 10 बजे हमलोग 10 विधायकों के साथ सीएम आवास पर मुख्य सचिव के साथ मीटिंग के लिए पहुंचे थे. मुख्य सचिव अंशु प्रकाश लगभग 12 बजे मीटिंग में आए. हम लोगों ने चीफ सेक्रेटरी के सामने सवाल रखा कि पूरी दिल्ली में पिछले दो महीने से करीब ढाई लाख लोगों को राशन मिलने में दिक्कत हो रही है. क्योंकि, हम आरक्षित विधानसभा से आते हैं इसलिए वहां पर अधिकांश लोगों को राशन कार्ड से जुड़ी कई समस्याएं हैं. यह सवाल पूछते ही मुख्य सचिव उत्तेजित हो गए और हम लोगों से कहने लगे कि मैं तुम्हारे प्रश्न के उत्तर देने के लिए जवाबदेह नहीं हैं. प्रकाश जी और हमलोगों को मुख्य सचिव ने उल्टी-सीधी बात कहनी शुरू कर दी और मीटिंग से उठ कर चल दिए. उनकी मंशा क्या थी यह हमलोगों को पता नहीं.’

दिल्ली के इस राजनीतिक माहौल में आम आदमी पार्टी को अपने बचाव के लिए शायद ये उपाय भी कम पड़ने लगे तो उसने थोड़ा आगे बढ़कर ये भी कह दिया कि मुख्य सचिव बीजेपी के इशारे पर काम कर रहे हैं.

तीन साल की अपनी उपलब्धियों की कहानी के बीच दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार इस ताजा घटनाक्रम के बाद बैकफुट पर आती दिख रही है. उधर, विपक्षी पार्टियों ने आप सरकार पर हमला तेज कर दिया है. कांग्रेस नेता अजय माकन ने कहा है कि दिल्ली में विभिन्न मोर्चों पर विफल रही आप सरकार के विधायक अब कानून को भी हाथ में लेने से परहेज नहीं कर रहे हैं. उनका साफ कहना है कि किसी आला अधिकारी को पीटा जाना इसी ओर इशारे करता है. माकन ने मामले में मुख्यमंत्री केजरीवाल से माफी की मांग की है.

MANOJ TIWARI

उधर, बीजेपी ने भी घटना को लेकर आप सरकार पर हमला तेज कर दिया है. दिल्ली प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने भी इस घटना को शर्मनाक बताया है. साथ ही पार्टी ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से तुरंत इस्तीफे की मांग की है. दिल्ली पुलिस ने इस पूरे मामले में मुख्य सचिव की शिकायत पर अमानतुल्लाह खान समेत दो आप विधायकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया है.

वहीं दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को सचिवालय में आप नेताओं के दंगे जैसे हालात पैदा किए जाने के मामले की भी जांच शुरू कर दी है. आप नेता आशीष खेतान ने भी मीडिया से कहा है कि दिल्ली सचिवालय में मंगलवार को भीड़ जमा हो गई, जो बाद में हिंसक हो गई और हमारे खिलाफ नारेबाजी करने लगी. हम नहीं जानते हैं कि वे लोग कौन थे और सचिवालय में क्यों पहुंचे थे. सारा मामला सीसीटीवी में कैद है. मैंने दिल्ली पुलिस से इस मामले में शिकायत दर्ज कराई है और निष्पक्ष जांच की बात कही है.

दूसरी तरफ इस मामले में नया मोड़ तब आ गया जब आप विधायक प्रकाश जारवाल ने अनुसूचित जाति जनजाति आयोग से मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के खिलाफ शिकायत दर्ज करा दी.

देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ आम आदमी पार्टी के विधायकों द्वारा हाथापाई की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है. आप विधायकों के साथ मारपीट के शिकार मुख्य सचिव ने गृह मंत्री के साथ मुलाकात कर इस घटना की जानकारी दी है.

दिल्ली के मुख्य सचिव ने भी खुद के साथ हुई घटना को लेकर दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है. मुख्य सचिव के शिकायत पर दिल्ली पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दिया है.

अब सवाल यह उठता है कि दिल्ली में आगे क्या होने वाला है? क्या सचमुच में केजरीवाल सरकार ने अपनी सारी सीमाएं लांघ दी हैं या फिर मुख्य सचिव इस घटना को तिल का ताड़ बना रहे हैं. दिल्ली में 15 साल सरकार चलाने वाली कांग्रेस पार्टी कह रही है कि हमारे शासनकाल में ऐसी एक भी घटना सामने नहीं आई. अरविंद केजरीवाल के शासनकाल में ही क्यों इस तरह की घटना देखने को मिल रही है?

देश में शायद यह पहली बार देखा जा रहा है कि किसी सरकारी एसोसिएशन की तरफ से सरकार बर्खास्त करने की मांग उठ रही है. अभी तक विपक्षी पार्टियां ही दिल्ली सरकार को बर्खास्त करने की मांग करती रही हैं और अब देश में शायद पहली बार आईएस एसोसिएशन ने भी किसी चुनी हुई सरकार को बर्खास्त करने की मांग कर दी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
कोई तो जूनून चाहिए जिंदगी के वास्ते

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi