S M L

शिवपाल से बोले विश्वास- मैं और आप पार्टी के आडवाणी

विश्वास ने कहा कि मैं और शिवपाल आज अपनी-अपनी पार्टी के आडवाणी हो गए हैं, हम दोनों बस दूसरों को मुख्यमंत्री बनाने के काम आते हैं

FP Staff Updated On: Jan 24, 2018 12:00 PM IST

0
शिवपाल से बोले विश्वास- मैं और आप पार्टी के आडवाणी

आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास पार्टी द्वारा राज्यसभा में नहीं भेजे जाने के गम को अब तक भुला नहीं पाए हैं. हर मौके पर या यूं कहे जहां भी मौका मिलता है विश्वास अपना ये दर्द सामने ला ही देते हैं. समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता शिवपाल सिंह यादव के जन्मदिन पर लखनऊ में सोमवार को आयोजित एक कवि सम्मेलन में विश्वास ने अपने अंदाज में शिवपाल सिंह यादव के प्रति संवेदना जाहिर की.

कुमार विश्वास आम आदमी पार्टी में अलग-थलग कर दिए गए हैं, वहीं समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल यादव के बीच अंदरूनी कलह भी जगजाहिर है. एसे मौके पर कवि सम्मेलन में शिवपाल के साथ मंच पर मौजूद विश्वास ने अपनी तुलना बीजेपी के वरिष्ठ नेता और मार्गदर्शक मंडल में भेजे जा चुके लालकृष्ण आडवाणी से की.

सम्मेलन में कविता पढ़ते हुए विश्वास ने कहा कि मैं और शिवपाल आज अपनी-अपनी पार्टी के आडवाणी हो गए हैं. हम दोनों बस दूसरों को मुख्यमंत्री बनाने के काम आते हैं.

सीएम केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कुमार विश्वास ने कहा कि मेरे लफ्जों पे मरते थे वो अब कहते हैं.. मत बोलो'. उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने अपना खून-पसीना एक कर पार्टी को खड़ा किया, नेतृत्व ने उन्हें ही किनारे कर दिया है.

विश्वास का इशारा पीएम मोदी की ओर भी था. मोदी के पीएम बनने के बाद से लालकृष्ण आडवाणी को पार्टी से लगभग किनारे कर दिया गया है. इसी कारण विश्वास ने आम आदमी पार्टी में खुद की स्थिति और सपा में शिवपाल की स्थिति को आडवाणी की हालात से जोड़ लिया.

पहले आम आदमी पार्टी की तरफ से कुमार विश्वास को राज्यसभा भेजने की चर्चा थी. विश्वास खुद कई बार समिति के सामने अपनी इच्छा जाहिर कर चुके थे. लेकिन, पार्टी ने संजय सिंह, नारायण दास गुप्ता और सुशील गुप्ता को राज्यसभा भेजने का फैसला ले लिया. तब से विश्वास केजरीवाल से नाराज चल रहे हैं.

केजरीवाल के खिलाफ नाराजगी जाहिर करते हुए कुमार ने कहा था कि मुझे सर्जिकल स्ट्राइक, टिकट वितरण में गड़बड़ी, जेएनयू समेत अन्य मुद्दों पर सच बोलने के लिए दंडित किया गया है. मैं इस दंड को स्वीकार करता हूं.

कुमार ने पत्रकारों से कहा था कि मुझे डेढ़ साल पहले अरविंद ने बुलाकार कहा था कि सर जी आपको मारेंगे लेकिन शहीद नहीं होने देंगे. अब मैं कहता हूं मुझे तो शहीद कर दिया, पर शव से छेड़छाड़ मत करो.

(साभार न्यूज-18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi