S M L

आम आदमी पार्टी@6: बधाई देकर केजरीवाल बोले- गर्व से कहो हम आपिए हैं

केजरीवाल ने कहा, 'आप' में होना आपको लगातार देश के प्रति आपकी जिम्मेदारी का एहसास दिलाता है. यदि आप 'आप' में हैं तो इसका मतलब आपने अपना जीवन देश की सेवा में समर्पित कर दिया'

Updated On: Nov 26, 2018 01:57 PM IST

FP Staff

0
आम आदमी पार्टी@6: बधाई देकर केजरीवाल बोले- गर्व से कहो हम आपिए हैं

अलग तरह की राजनीति करने का दावा कहकर देश की सियासत में कदम रखने वाली आम आदमी पार्टी (आप) का आज यानी सोमवार को जन्मदिन है. 6 साल पहले आज ही के दिन दिल्ली और देश की जनता के लिए आप उम्मीदों का नया सवेरा लेकर आई थी.

आम आदमी पार्टी के लिए सोमवार का दिन बहुत खास है. इस मौके पर पार्टी दफ्तर में आयोजित विशेष सभा में संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सभी कार्यकर्ताओं को इसकी बधाई दी और आप सरकार की उपलब्धियों के बारे में बताया.

उन्होंने आप कार्यकर्ताओं की हौसलाअफजाई करते हुए ट्वीट किया, 'आम आदमी पार्टी के जन्मदिवस के अवसर पर गर्व से कहो कि हम आपिए हैं. 'आप' में होना आपको लगातार देश के प्रति आपकी जिम्मेदारी का एहसास दिलाता है. यदि आप 'आप' में हैं तो इसका मतलब आपने अपना जीवन देश की सेवा में समर्पित कर दिया.'

केजरीवाल ने कहा, '6 साल पहले आज के ही दिन आम आदमी पार्टी की राजनीतिक यात्रा शुरू हुई थी. नि:स्वार्थ भाव से काम करने वाले लाखों कार्यकर्ताओं और शुभचिंतकों के दम पर तमाम बाधाओं के बावजूद भारत को भ्रष्टाचार, सांप्रदायिकता और जातिवाद के जहर से मुक्त कराने की दिशा में यह राजनीतिक क्रांति आगे बढ़ रही है.'

उन्होंने कहा, '26 नवंबर, 1949 को संविधान दिवस के रूप में मनाया जाता है, और इसी दिन 2012 में आम आदमी पार्टी बनी थी. दोस्तों यही नियती थी.'

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा, जब हम पहली बार चुनाव लड़े थे तो कुछ लोगों ने आम आदमी पार्टी की हार और जमानत जब्त होने की भविष्यवाणी की थी. मगर हम आज सरकार में हैं.'

2012 में कैसे बनी थी आम आदमी पार्टी? 

2012 में दिल्ली के रामलीला मैदान में समाजसेवी अन्ना हजारे के आंदोलन के दौरान मंच का संचालन करने वाले अरविंद केजरीवाल के विचारों से आम आदमी पार्टी निकली है. तब केजरीवाल और उनके सहयोगियों ने देश की राजनीति से अलग विचारधारा और साफ-सुथरी राजनीति की बात कही थी.

मगर अन्ना को राजनीतिक पार्टी बनाने पर ऐतराज था. उनका मानना था कि राजनीति दलदल है जिसमें केवल बेइमानी और भ्रष्टाचार है. मगर अन्ना के इस विरोध के बावजूद अरविंद केजरीवाल और उनके साथियों ने आम आदमी पार्टी का गठन किया. तब अरविंद का साथ देने वालों में शांति भूषण, प्रशांत भूषण, मनीष सिसोदिया, कुमार विश्वास, योगेंद्र यादव, शाजिया इल्मी, किरण बेदी जैसे लोग शामिल थे. मगर वक्त बीतने के साथ उनमें से ज्यादातर अब इस पार्टी के हिस्सा नहीं हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi