S M L

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले 62 नक्सलियों का आत्मसमर्पण

नक्सलियों ने साथ में 51 देसी हथियारों को भी सरेंडर किया. गृहमंत्री ने राज्य सरकार के सरेंडर और पुनर्वास कार्यक्रम को दिया श्रेय

Updated On: Nov 06, 2018 06:31 PM IST

FP Staff

0
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले 62 नक्सलियों का आत्मसमर्पण
Loading...

राज्य विधानसभा चुनावों के पहले नक्सलवाद के खिलाफ लड़ाई में छत्तीसगढ़ राज्य सरकार को बड़ी सफलता हाथ लगी है. छत्तीसगढ़ के नारयणपुर जिले में आज 62 माओवादियों ने आत्मसमर्पण कर दिया है. नक्सलियों ने बस्तर के आईजी विवेकानंद सिन्हा और नारायणपुर के एसपी जितेंद्र शुक्ला की उपस्थित में 51 देसी हथियार भी सरेंडर किए. ये सभी नक्सली सीपीआई (माओवादी) के लिए कुतुल एरिया कमिटि के साथ काम कर रहे थे.

छत्तीसगढ़ दशकों से नक्सलवाद से जूझ रहा है. एक स्टडी के 23 सितंबर तक के आंकड़ों के अनुसार पिछले पांच सालों में राज्य में नक्सल हिंसा में 43 आम नागरिकों ने जान गंवा दी है. कुछ दिनों पहले दंतेवाड़ा में एक हमले में दूरदर्शन के कैमरामैन सहित 3 पुलिसवाले नक्सल हमले में मारे गए थे. गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने माओवादियों के सरेंडर की घटना को बीजेपी सरकार के अंतर्गत राज्य में सुधरते हालात को इसका श्रेय दिया.

राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर राज्य के मुख्यमंत्री और पुलिस को बधाई देते हुए लिखा- 'यह जानकर खुशी हो रही है कि छत्तीसगढ़ में बड़ी मात्रा में माओवादियों ने पुलिस के सामने हथियारों के साथ आत्मसमपर्ण किया है.' इसके साथ ही गृहमंत्री ने इस सफलता के लिए राज्य सरकार की सरेंडर और पुनर्वास योजना को भी इसका श्रेय दिया. उन्होंने कहा- 'सरकार के सरेंडर और पुनर्वास कार्यक्रम का बहुत ही सकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहा है. और इससे राज्य में सुरक्षा व्यवस्था में तेजी से बदलाव हो रहे हैं. सरकार की आत्मसमर्पण नीति की सफलता वामपंथी चरमपंथियों को हिंसा के मार्ग को दूर करने के लिए प्रेरित कर रही है.'

राज्य के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों को सही निर्णय लेने के लिए बधाई दी.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi