S M L

यूपी के मंदिरों, आश्रमों के आंकड़े जुटा रही BJP, वोटों की गोलबंदी पर ध्यान

यूपी में तकरीबन डेढ़ लाख पोलिंग बूथ हैं और बीजेपी इन बूथों को ध्यान में रखकर अपनी कमेटी बना रही है. हर कमेटी में 21 सदस्य होंगे

FP Staff Updated On: Aug 06, 2018 01:31 PM IST

0
यूपी के मंदिरों, आश्रमों के आंकड़े जुटा रही BJP, वोटों की गोलबंदी पर ध्यान

2019 लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी यूपी में मंदिरों और आश्रमों के आंकड़े जुटा रही है. पार्टी ने इसके लिए फॉर्म तैयार किया है जिसमें धार्मिक स्थान मोबाइल नंबर सहित पुजारियों की डिटेल मांगी गई है.

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, धार्मिक आंकड़े जुटाने के अलावा पार्टी ने अपने कार्यकर्ताओं से बूथ स्तर पर एससी और ओबीसी लोगों की जानकारी लेने का निर्देश दिया है. पार्टी कार्यकर्ताओं से हर इलाके के रसूखदार लोगों के नाम, मोबाइल नंबर और उनके पेशे की जानकारी जुटाने की बात कही गई है.

यूपी में तकरीबन डेढ़ लाख पोलिंग बूथ हैं और बीजेपी इन बूथों को ध्यान में रखकर अपनी कमेटी बना रही है. हर कमेटी में 21 सदस्य होंगे, जिनमें एक अध्यक्ष, दो उपाध्यक्ष, एक सचिव और बूथ स्तरीय एजेंट शामिल होंगे.

यूपी बीजेपी के उपाध्यक्ष जेएस राठौर ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, 16 से 25 अगस्त के बीच बूथ सेलेक्शन कमेटी की बैठक होगी. बूथ प्रबंधन कमेटी 29 लाख कार्यकर्ताओं की टीम बनाएगी. साथ ही ब्लॉक और जनपद स्तर पर 11 लाख लोगों की टीम बनेगी जो पूरे प्रदेश में 40 लाख बीजेपी कार्यकर्ताओं को जोड़ेगी. इन कार्यकर्ताओं का मुख्य काम लोगों को केंद्र और प्रदेश सरकार के कार्यों की जानकारी देना होगा.

कार्यकर्ताओं से जनसंपर्क अभियान करने को कहा जाएगा. लोगों के बीच जाकर उनसे बीजेपी स्थापना दिवस, मन की बात, पंडित दीन दयाल उपाध्याय दिवस पर कार्यक्रम आयोजित करने की योजना बनाई जाएगी.

यह भी कहा जा रहा है कि पार्टी ने अलग-अलग बूथों के लिए अलग-अलग कोड तए किए हैं. जो चुनाव क्षेत्र या बूथ पार्टी के लिए उपयुक्त हैं, उसे 'ए', जहां जीत की संभावना 60-40 के अनुपात में है, उसे 'बी' और अल्पसंख्यक बहूल इलाके को 'सी' कोड दिया गया है.

इस बारे में एक सवाल के जवाब में बीजेपी के संगठन सचिव सुनील बंसल ने कहा 2019 चुनावों की रणनीति के तहत जानकारियां जुटाई जा रही हैं. उन्होंने यह भी बताया कि मंदिर के अलावा गुरुद्वारों के भी आंकड़े लिए जा रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi