S M L

आलोक वर्मा की जगह CBI चीफ बनाने के लिए 12 लोगों को किया गया है शॉर्टलिस्टः सूत्र

सरकार ने अपनी वरिष्ठता, अखंडता, भ्रष्टाचार विरोधी मामलों की जांच में अनुभव और सबसे अहम सीबीआई में काम करने या सतर्कता मामलों को संभालने के अनुभव के आधार पर 12 उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट किया है

Updated On: Jan 24, 2019 10:31 AM IST

FP Staff

0
आलोक वर्मा की जगह CBI चीफ बनाने के लिए 12 लोगों को किया गया है शॉर्टलिस्टः सूत्र

देश की केंद्रीय जांच एजेंसी, केंद्रीय जांच ब्यूरो या CBI में तीन महीने की उथल-पुथल के बाद आज उसे एक पूर्णकालिक निदेशक मिलेगा. एजेंसी के लिए एक नए प्रमुख को नियुक्त करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास पर आज एक उच्चस्तरीय चयन समिति की बैठक होगी. आलोक वर्मा को 2:1 की बहुमत वाले फैसले में उच्चस्तरीय पैनल द्वारा सीबीआई चीफ के रूप में हटाए जाने के लगभग दो सप्ताह बाद यह बैठक हो रही है. इस बैठक में तीन पैनल के सदस्य हैं, पीएम मोदी, भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई और लोकसभा में सबसे बड़े विपक्षी दल के नेता, कांग्रेस के मल्लिकार्जुन खड़गे.

मुंबई पुलिस आयुक्त सुबोध जायसवाल का नाम भी शामिल है

एनडीटीवी की खबर के अनुसार पीएम कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि 1982-1985 बैच के आईपीएस अधिकारी पद के लिए विवाद में थे. खबर है कि सरकार ने अपनी वरिष्ठता, अखंडता, भ्रष्टाचार विरोधी मामलों की जांच में अनुभव और सबसे अहम सीबीआई में काम करने या सतर्कता मामलों को संभालने के अनुभव के आधार पर 12 उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट किया है. पीएम कार्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा- सरकार इस बार मौका नहीं लेना चाहती है. इसीलिए उन्होंने 12 अधिकारियों को शॉर्टलिस्ट किया है. जिनके नाम शॉर्टलिस्ट किए गए हैं, उनमें 1983 बैच के अधिकारी शिवानंद झा जो डीजीपी गुजरात हैं, बीएसएफ के महानिदेशक रजनीकांत मिश्रा, सीआईएसएफ के महानिदेशक राजेश रंजन, महानिदेशक एनआईए वाईसी मोदी और मुंबई पुलिस आयुक्त सुबोध जायसवाल के नाम शामिल हैं.

वाईसी मोदी गुजरात दंगों की जांच कर रहे विशेष जांच दल का हिस्सा हैं

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा- अगर मामला वरिष्ठता पर अटका हुआ है, तो सरकार झा के साथ जा सकती है. पीएम उन्हें भी जानते हैं क्योंकि उन्होंने केवल झा को पुलिस आयुक्त के रूप में नियुक्त किया था. झा 2021 में रिटायर होंगे. इस बात पर भी बहस हो रही है कि अगर डीजीपी गुजरात का पद खाली हो जाता है तो मोदी सरकार वहां पूर्व सीबीआई नंबर 2 ऑफिसर राकेश अस्थाना के लिए प्रयास कर सकती है. वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, महानिदेशक एनआईए वाईसी मोदी इस पद के लिए एक और मजबूत दावेदार हैं. उन्होंने बताया वह आरएसएस से भी जुड़े हैं और सीबीआई में लंबे समय तक काम किया है. वहीं वाईसी मोदी गुजरात दंगों की जांच कर रहे विशेष जांच दल का भी हिस्सा हैं. सूत्रों का कहना है कि महानिदेशक बीएसएफ आरके मिश्रा को सीबीआई के शीर्ष पद के लिए भी माना जा रहा है.

खड़गे ने वर्मा के आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए असहमति व्यक्त की थी

सूत्रों का कहना है कि वह पीएम के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा के करीबी हैं. सूत्रों के मुताबिक मुंबई के पुलिस कमिश्नर सुबोध जायसवाल भी अपने आरएसएस लिंक के लिए जाने जाते हैं. बता दें कि आलोक वर्मा के शीर्ष पद से हटने से राजनीतिक तूफान खड़ा हो गया था. विशेष पैनल का फैसला आलोक वर्मा के खिलाफ आरोपों पर एंटी करप्शन वॉच डॉग केंद्रीय सतर्कता आयोग की एक रिपोर्ट पर आधारित था. हालांकि मल्लिकार्जुन खड़गे ने आलोक वर्मा के खिलाफ लगाए गए आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए असहमति व्यक्त की थी. आलोक वर्मा ने दावा किया कि उन्हें एक व्यक्ति द्वारा अयोग्य, झूठे और भद्दे आरोप के आधार पर स्थानांतरित किया गया था. उन्हें इस महीने के अंत तक रिटायर होना था. उन्हेंने फायर चीफ के रूप में कार्यभार संभालने से इनकार कर दिया और इस्तीफा दे दिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi