S M L

women's day 2018: क्या सोचते थे लेनिन, गांधी, नेहरू महिलाओं के बारे में

फ़ोटो | FP Staff | Mar 08, 2018 12:01 AM IST
X
1/ 8
International women's day 2018 quotes and card periyar

International women's day 2018 quotes and card periyar

X
2/ 8
आप किसी देश की स्थिति उसमें मौजूद महिलाओं की हालत से समझ सकते हैं.

आप किसी देश की स्थिति उसमें मौजूद महिलाओं की हालत से समझ सकते हैं.

X
3/ 8
औरतों को कमजोर कहना पुरुषों को महिलाओं के प्रति अन्याय है. अगर आंतरिक ताकत की बात की जाए तो औरतें आदमियों से कई गुना ताकतवर हैं.

औरतों को कमजोर कहना पुरुषों को महिलाओं के प्रति अन्याय है. अगर आंतरिक ताकत की बात की जाए तो औरतें आदमियों से कई गुना ताकतवर हैं.

X
4/ 8
हर बार जब कोई महिला अपने लिए खड़ी होती है, वो पूरी नारी जाति के लिए खड़ी होती है.

हर बार जब कोई महिला अपने लिए खड़ी होती है, वो पूरी नारी जाति के लिए खड़ी होती है.

X
5/ 8
जो महिलाएं पुरुषों के बराबर आना चाहती हैं, उनमें कम महत्वाकांछा होती है.

जो महिलाएं पुरुषों के बराबर आना चाहती हैं, उनमें कम महत्वाकांछा होती है.

X
6/ 8
'अच्छी' औरतें कभी इतिहास नहीं बनातीं.

'अच्छी' औरतें कभी इतिहास नहीं बनातीं.

X
7/ 8
महिलाओं का अभी तक का दर्जा गुलामों की तरह ही है. उन्हें घर पर ही बांधकर रखा जाता है. सिर्फ समाजवाद ही उन्हें इससे मुक्त कर सकता है.

महिलाओं का अभी तक का दर्जा गुलामों की तरह ही है. उन्हें घर पर ही बांधकर रखा जाता है. सिर्फ समाजवाद ही उन्हें इससे मुक्त कर सकता है.

X
8/ 8
 सबसे बुरी बात ये है कि महिलाओं को ज्यादातर अकेले, घर के सारे गंदे काम करने के भर तक ही रखा जाता है. ये सारे काम गैरजरूरी, मुश्किल और आत्मा कको खत्म करने वाले हैं.

सबसे बुरी बात ये है कि महिलाओं को ज्यादातर अकेले, घर के सारे गंदे काम करने के भर तक ही रखा जाता है. ये सारे काम गैरजरूरी, मुश्किल और आत्मा कको खत्म करने वाले हैं.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Test Ride: Royal Enfield की दमदार Thunderbird 500X

क्रिकेट स्कोर्स और भी