विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

नवरात्रि 2017: देश भर में दुर्गा नवमी के दिन उमड़ी भक्तों की भीड़

आस्था | FP Staff | Sep 29, 2017 03:19 PM IST
X
1/ 5
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार छोटी कन्याओं को देवी का रूप माना गया है. मां सिद्धीदात्री का पूजन करने के बाद ही नवरात्रि का समापन किया जाता है.

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार छोटी कन्याओं को देवी का रूप माना गया है. मां सिद्धीदात्री का पूजन करने के बाद ही नवरात्रि का समापन किया जाता है.

X
2/ 5
हल्दी, केसर या कुंकुम से रंगे चावल, इलायची, लौंग, काजू, पिस्ता, बादाम, गुलाब के फूल की पंखुड़ी, मोगरे का फूल, चारौली, किसमिस, सिक्का आदि का प्रयोग शुभ माना जाता है.

हल्दी, केसर या कुंकुम से रंगे चावल, इलायची, लौंग, काजू, पिस्ता, बादाम, गुलाब के फूल की पंखुड़ी, मोगरे का फूल, चारौली, किसमिस, सिक्का आदि का प्रयोग शुभ माना जाता है.

X
3/ 5
ऐसी मान्यता है कि इस दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का वध किया था इसलिए इस दिन को महानवमी और दुर्गा नवमी के नाम से पर्व के रुप में मनाया मनाया जाता है.

ऐसी मान्यता है कि इस दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का वध किया था इसलिए इस दिन को महानवमी और दुर्गा नवमी के नाम से पर्व के रुप में मनाया मनाया जाता है.

X
4/ 5
पुराण के अनुसार देवी सिद्धिदात्री के पास अणिमा, महिमा, प्राप्ति, प्रकाम्य, गरिमा, लघिमा, ईशित्व और वशित्व यह आठ सिद्धियां हैं.

पुराण के अनुसार देवी सिद्धिदात्री के पास अणिमा, महिमा, प्राप्ति, प्रकाम्य, गरिमा, लघिमा, ईशित्व और वशित्व यह आठ सिद्धियां हैं.

X
5/ 5
शास्त्रों के अनुसार ऐसी मानयता है कि मां पार्वती ने महिषासुर नामक राक्षस को मारने के लिए दुर्गा का रुप लिया था.

शास्त्रों के अनुसार ऐसी मानयता है कि मां पार्वती ने महिषासुर नामक राक्षस को मारने के लिए दुर्गा का रुप लिया था.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी