S M L

दलाई लामा ने जान बचाने वाले सैनिक को 58 साल बाद देखते ही गले से लगा लिया...!

जब 58 साल पहले दलाई लामा भारत आए थे तब नरेन दास उन सैनिकों में से एक थे जिन्होंने उन्हें सुरक्षा दी थी.

Updated On: Apr 03, 2017 03:13 PM IST

FP Staff

0
दलाई लामा ने जान बचाने वाले सैनिक को 58 साल बाद देखते ही गले से लगा लिया...!

तिब्बती बौद्ध धर्मगुरू दलाई लामा शनिवार को दो दिनों के लिए असम की यात्रा पर गुवाहाटी पहुंचे. इस मौके पर गुवाहाटी एयरपोर्ट उनका स्वागत अरूणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडु ने किया.

PTI4_1_2017_000066B

गुवाहाटी में आयोजित असम ट्रिब्यून ग्रुप के प्लैटिनम जुबली कार्यक्रम में दलाई लामा का स्वागत पारंपरिक असमिया टोपी 'जापी' पहनाकर किया गया.

dalai lama

इस मौके पर उनका स्वागत उन्हें असम का पारंपरिक तोहफा सराई भेंट कर के किया गया.

PTI4_1_2017_000114B

असम के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित और मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवल के साथ मंच पर दीप जलाते हुए बौद्ध धर्मगुरू दलाई लामा.

dalai lama

इस मौके पर दलाई लामा ने अपनी आत्मकथा ‘मेरी धरती-मेरे लोग’ का असमिया भाषा में किया गया अनुवाद ‘मोर देश अरु मोर मानुह’ का गुवाहाटी यूनिवर्सिटी में लोकार्पण किया.

dalai lama

गुवाहाटी में आयोजित नमामी ब्रह्मपुत्रा महोत्सव के दौरान दलाई लामा 5 असम राईफल्स के रिटायर्ड हवलदार नरेन चंद्र दास के साथ. नरेन दास उन सात भारतीय सैनिकों में से जीवित बचे एकलौते सैनिक हैं जो 1959 में दलाई लामा को सुरक्षित भारत की धरती पर लेकर आए थे.

dalai lama

नरेन चंद्र दास के साथ दलाई लामा. दलाई लामा साल 1959 में तिब्बत से अपनी जान बचाकर भारत आए थे. तब उन्हें सुरक्षित भारत लाने वाले सैनिकों में से एक नरेंद्र दास थे.

dalai lama

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi