S M L

जयपुर में जीका वायरस का कहर, सामने आए 50 मामले

जयपुर में निगरानी टीमों की संख्या 50 से बढ़ाकर 170 कर दी गई है और हीरा बाग इलाज केंद्र में एक विशेष वॉर्ड बनाया गया है जहां जीका वायरस से प्रभावित मरीजों को अलग रखकर इलाज किया जा सके

Updated On: Oct 12, 2018 09:42 PM IST

Bhasha

0
जयपुर में जीका वायरस का कहर, सामने आए 50 मामले

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि राजस्थान के जयपुर में 18 और लोगों को जीका वायरस की जांच में पॉजिटिव पाया गया है. ताजा आंकड़े सामने आने के बाद ऐसे मामलों की कुल संख्या बढ़कर 50 हो गई है.

जयपुर के शास्त्री नगर इलाके में कम से कम 10 लोग जीका वायरस की चपेट में बताए गए हैं.

राजस्थान के स्वास्थ्य विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव (मेडिकल और स्वास्थ्य) वीणु गुप्ता की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई एक समीक्षा बैठक के बाद यह आंकड़े जारी किए गए.

जीका वायरस का पहला मामला 22 सितंबर को सामने आया था. इस वायरस का फैलाव रोकने के लिए शास्त्री नगर इलाके में धुएं का छिड़काव (फॉगिंग) एवं अन्य उपाय किए जा रहे हैं.

इससे पहले, विभाग के एक अधिकारी ने कहा था कि कुल 30 मामलों में इलाज के बाद मरीजों की तबीयत ठीक है. समीक्षा बैठक में हालात पर काबू पाने के उपायों पर चर्चा की गई. विभाग ने शास्त्री नगर इलाके के बाहर रह रही गर्भवती महिलाओं के लिए परामर्श जारी कर कहा है कि वे उस इलाके में नहीं जाएं. हालात पर नजर रखने के लिए राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र में एक नियंत्रण कक्ष चालू किया गया है.

जयपुर में निगरानी टीमों की संख्या 50 से बढ़ाकर 170 कर दी गई है और हीरा बाग इलाज केंद्र में एक विशेष वॉर्ड बनाया गया है जहां जीका वायरस से प्रभावित मरीजों को अलग रखकर इलाज किया जा सके.

एडिज एजेप्टी मच्छर के जरिए फैलने वाले जीका वायरस की चपेट में आने पर व्यक्ति को बुखार होता है, त्वचा पर दाग हो जाते हैं, कंजक्टिवाइटिस यानी आंखों में संक्रमण हो जाता है, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द होता है. गर्भवती महिलाओं के लिए यह काफी नुकसानदेह माना जाता है, क्योंकि इससे ‘माइक्रोसिफेली’ होने का खतरा होता है, जिसमें नवजात शिशु का सिर अपेक्षा से बहुत छोटा होता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi