S M L

जाकिर नाईक का केंद्र पर आरोप, मुझे धर्म के नाम पर निशाना बनाया

जाकिर नाईक ने इंटरपोल से अनुरोध किया कि वह भारत सरकार की उनके खिलाफ रेड कॉर्नर जारी करने की याचिका को स्‍वीकार ना करे

Updated On: Aug 31, 2017 06:37 PM IST

FP Staff

0
जाकिर नाईक का केंद्र पर आरोप, मुझे धर्म के नाम पर निशाना बनाया

भगौड़े इस्‍लामिक उपदेशक डॉक्‍टर जाकिर नाईक ने केंद्र सरकार पर राजनीतिक फायदे के लिए अल्‍पसंख्‍यकों को निशाना बनाने का आरोप लगाया है. नाईक ने केंद्र सरकार के लिए 'हिंदू राष्‍ट्रवादी सरकार' टर्म का इस्‍तेमाल किया. उन्‍होंने इंटरपोल से अनुरोध किया कि वह भारत सरकार की उनके खिलाफ रेड कॉर्नर जारी करने की याचिका को स्‍वीकार ना करे.

नाईक के वकीलों की ओर से फ्रांस में मौजूद इंटरपोल के सेक्रेटरी जनरल को भेजा गया खत CNN-News18 के पास है. इसमें कहा गया है कि रेड नोटिस जारी और पब्लिश ना किया जाए. इसके लिए कारण बताया गया है कि भारत सरकार की याचिका इंटरपोल के संविधान और नियमों के अनुसार नहीं है.

मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोपों का खंडन

नाईक के वकील कॉर्कर बिनिंग की ओर से भेजे खत में कहा गया है, 'वह(नाईक) न्‍याय से भाग नहीं रहे हैं.' खत में मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोपों का खंडन भी किया गया है.

पत्र में लिखा है, 'जब एक हिंदू राष्‍ट्रवादी सरकार ने भारत के मुस्लिम अल्‍पसंख्‍यकों में जोरदार समर्थन रखने वाले एक धर्मशास्‍त्री के खिलाफ संदिग्‍ध आपराधिक कार्रवाई शुरू की है और आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोपों के जरिए उसकी प्रतिष्‍ठा को खराब करना चाहा है तो फिर विशेष चौकसी की जरूरत है.' आगे लिखा गया है कि भारतीय आपराधिक प्रक्रिया का राजनीतिक फायदे के लिए दुरुपयोग किया जा रहा है. इसके जरिए डॉ. नाईक की अभिव्‍यक्ति की आजादी के शांतिपूर्ण तरीके में बाधा डाली जा रही है.

बता दें कि जाकिर नाईक पिछले साल से भारत से बाहर है. जनवरी 2016 में बांग्‍लादेश की राजधानी ढाका में आतंकी हमले के बाद नाईक पर आरोप लगा था कि उन्‍होंने युवाओं को आतंक से जुड़ने को उकसाया.

(साभार न्यूज़ 18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi