S M L

‘दंगल’ की भावना से मेल नहीं खा रही जायरा की माफी

फिल्म में उन्होंने गीता फोगाट का रोल प्ले किया है, जो खुद भी कई सामाजिक परेशानियों से लड़कर सफल हुई हैं

Updated On: Jan 16, 2017 08:16 PM IST

Arun Tiwari Arun Tiwari
सीनियर वेब प्रॉड्यूसर, फ़र्स्टपोस्ट हिंदी

0
‘दंगल’ की भावना से मेल नहीं खा रही जायरा की माफी

दंगल फिल्म में गीता फोगाट के बचपन का किरदार निभाने वाली जायरा वसीम ने पहले तो सोशल मीडिया पर माफी मांगी फिर माफी हटा ली. जायरा के माफी मांगते ही जब मीडिया में कई जगहों पर खबरें छपीं कि ये फैसला उन्होंने दबाव में आकर लिया है तो फिर जायरा ने एक पोस्ट किया कि मैंने यह पोस्ट किसी के दबाव में नहीं लिखी है.

लोग कुछ सोचते-समझते इसके पहले ही चैनलों पर ब्रेकिंग चलनी शुरू हो गई कि जायरा ने अपना माफीनामा सोशल मीडिया से हटा लिया है. ये सारी घटनाएं कुछ ही घंटों के भीतर घटित हुईं. जायरा ने जैसे ही अपनी पोस्ट हटाई तो गीता और बबिता फोगाट ने भी उनके समर्थन में अपना बयान दे दिया.

गीता फोगाट ने कहा, ‘धाकड़ लड़कियों का रोल किया है उसने तो. उसे डरने या शर्मिंदा होने की कोई जरूरत नहीं है.’ बबिता ने लिखा, ‘हमलोग भी यहां बहुत सी मुश्किलों का सामना करके पहुंचे हैं. मैं जायरा से कहना चाहती हूं कि उन्हें डरने की जरूरत नहीं है, पूरा देश उनके साथ है’

दरअसल जायरा की कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती से मुलाकात के बाद उन्हे सोशल मीडिया पर ट्रोल करना शुरू कर दिया गया. महबूबा मुफ्ती की छवि राज्य में पिछले कुछ महीनों के दौरान बुरी तरह से खराब हुई है. महबूबा ने जायरा के बारे में कहा था कि ‘वे रियल हीरो हैं’.

Zaira Waseem meet Mehbooba

शनिवार को जायरा वसीम ने जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती से मुलाकात की थी (फोटो: पीटीआई)

इसके अलावा जायरा को इस बात के लिए भी ट्रोल किया गया कि दंगल फिल्म में एक भारतीय पहलवान का रोल कर उन्होंने भारत को समर्थन दिया है जो कश्मीरी अलगाववादियों की लड़ाई के विरोध में है. वो भारत से आजादी चाहते हैं.

जायरा ने फेसबुक पर लिखी अपनी माफी में कहा कि वे किसी के सेंटिमेंट के साथ नहीं खेलना चाहती थीं. जाने अनजाने में कोई गलती हुई हो तो माफी चाहती हैं. इसमें उन्होंने यह भी जिक्र किया कि उनकी उम्र केवल 16 साल है.

ट्रोल करने वालों से माफी मांगने की जरूरत नहीं

zaira waseem

जायरा को अलगाववादियों या सोशल मीडिया पर ट्रोल करने से माफी मांगने की कोई जरूरत नहीं थी. सोशल मीडिया पर ट्रोल करने वाले अलगाववादी संगठनों को दरअसल इस बात से दिक्कत है कि उनके एक राज्य की लड़की एक अच्छे कारण के लिए बनी फिल्म में काम कर सेलीब्रेटी बन गई है. उन्हें दिक्कत है कि अगर राज्य से भविष्य में लोग इसी तरह देश में सेलीब्रेटी बनने लगेंगे तो उनकी मुहिम का क्या होगा?

अपना धंधा चलाते रहने के लिए ये आवश्यक है कि कश्मीरी अलगाववादी वहां के लोगों को यह बताते रहें कि भारत हमारे लोगों के साथ अत्याचार करता रहता है. अगर जायरा वसीम जैसे चेहरे मीडिया की सुर्खियां बनते रहेंगे तो कश्मीर युवाओं में भी इस बात को लेकर ललक बनेगी कि हम भी सकारात्मक कामों में भाग लेकर देश का सेलीब्रेटी क्यों न बनें?

असलियत तो यह है कि जायरा वसीम जैसे अन्य कलाकार फिल्म इंडस्ट्री में आएं या क्रिकेट टीम में. वहां के खिलाड़ी दिखाई दें तो अलगाववादियों के हाथों से युवा बिदककर अपने आप अलग हो जाएगा.

Zaira Wasim

फोटो: फेसबुक से साभार

जायरा ने फिल्म दंगल फिल्म में गीता फोगाट के बचपन का रोल प्ले किया है. फिल्म में जब वे दौड़ने के लिए अपने गांव की सड़कों पर निकलती हैं तो उन्हें तानों का सामना करना पड़ता है. ठीक ऐसा ही स्कूल में होता है. आस-पास के माहौल में हर आदमी ताना मार रहा था. किस्मत देखिए फिल्म रिलीज हुए ज्यादा दिन नहीं बीते जब वैसी ही एक स्थिति में खुद जायरा खड़ी हो गई हैं.

जायरा को ऐसे लोगों के सामने माफी मांगकर कतई झुकना नहीं चाहिए जो कश्मीर की पूरी युवा आबादी को बर्बाद कर देने पर तुले हुए हैं. उन्हें देश के लगभग हर कोने से समर्थन मिल रहा है. रूढ़िवादियों के खिलाफ भले ही उन्होंने फिल्म में किरदार निभाया हो लेकिन जिंदगी ने उन्हें यह मौका तुरंत दिया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi