S M L

योगी सरकार ने यूपी को हताशा से निकालकर उम्मीद की किरण जगाई: PM

मोदी ने कहा 'राज्य में लखनऊ, वाराणसी और गोरखपुर में तीन हवाई अड्डे पहले से हैं. अब कुशीनगर और जेवर में दो नए अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बनाने का काम शुरू किया जा रहा है'

Updated On: Feb 21, 2018 02:55 PM IST

Bhasha

0
योगी सरकार ने यूपी को हताशा से निकालकर उम्मीद की किरण जगाई: PM

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्योगपतियों और निवेशकों की यहां वैश्विक निवेश सम्मेलन में व्यापक उपस्थित को 'बड़ा परिवर्तन' करार देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने राज्य को हताशा से निकालकर उम्मीद की एक किरण जगाई है.

मोदी ने यहां 'यूपी इन्वेस्टर्स समिट 2018' का शुभारंभ करते हुए कहा, 'जब परिवर्तन होता है तो सामने दिखने लगता है. उत्तर प्रदेश में इतने व्यापक स्तर पर इन्वेस्टर्स समिट का होना, इतने निवेशकों और उद्यमियों का एकजुट होना अपने आप में एक बहुत बड़ा परिवर्तन है.'

उन्होंने कहा कि राज्य के पिछड़े अंचल बुंदेलखंड के विकास को विशेष तौर पर ध्यान में रखते हुए तय किया गया है कि उत्तर प्रदेश में डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर का विकास आगरा, अलीगढ़, लखनऊ, कानपुर, झांसी और चित्रकूट तक होगा. इस कॉरिडोर में 20 हजार करोड़ रुपए के निवेश की संभावना है और ये ढाई लाख लोगों के लिए रोजगार के नए अवसर का सृजन करेगा.

उत्तर प्रदेश में वैल्यूज (मूल्य) हैं, वरच्यूज (गुण) हैं

मोदी ने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे और बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे से पूर्वांचल और बुंदेलखंड क्षेत्रों का औद्योगीकरण तेजी से होगा.

उन्होंने राज्य के समग्रवातावरण में परिवर्तन के विषय में कहा, 'पहले की स्थितियां क्या थीं? किन वजहों से थीं? ये उत्तर प्रदेश के लोगों से बेहतर कोई नहीं जानता है. भय और असुरक्षा के माहौल में जब सामान्य नागरिक का जीवन जीना मुश्किल हो जाता है तो फिर उद्योगों के लिए सोच ही कैसे सकते हैं. विकास की बात करना, नौजवानों को नए अवसर की बात करना, मध्यम वर्ग की आकांक्षाओं की बात करना... मैं नहीं मानता कि ऐसा माहौल कभी संभव था.'

मोदी ने कहा, 'निगेटिविटी (नकारात्मकता) के माहौल से राज्य को पॉजिटिविटी (सकारात्मकता) की तरफ लाना, हताशा और निराशा से उसे अलगकर उम्मीद की किरण जगाने का काम योगी सरकार ने किया है. उत्तर प्रदेश में अब वो बुनियाद तैयार हो चुकी है, जिस पर 'न्यू उत्तर प्रदेश' की भव्य और दिव्य इमारत का निर्माण होगा.'

केंद्र सरकार के मंत्रियों, प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्य सरकार के मंत्रियों, विदेश से आए राजनेताओं और उद्योगपतियों, भारत के बडे़ उद्योग घरानों के प्रमुखों की मौजूदगी में मोदी ने कहा कि म, लेकिन अब बदले समय में वैल्यू एडीशन (मूल्यवर्धन) की भी ज्यादा आवश्यकता है. सिर्फ वर्क कल्चर (कार्य संस्कृति), सिर्फ बिजनेस कल्चर (कारोबारी संस्कृति) में नहीं बल्कि हर क्षेत्र में वैल्यू एडीशन की आवश्यकता है.

Lucknow: Prime Minister Narendra Modi with Union Home Minister Rajnath Singh, Chief Minister of Uttar Pradesh Yogi Adityanath and Uttar Pradesh Governor Ram Naik, inaugurates the Investors Summit 2018 in Lucknow on Wednesday. PTI Photo/PIB(PTI2_21_2018_000017B)

उत्तर प्रदेश की जो 'कोर स्ट्रेंथ' है, उसमें वैल्यू एडीशन की बहुत जरूरत है. योगी सरकार इसका ध्यान रखकर निर्णय ले रही है और नीतियां बना रही है.

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के माध्यम से सबसे अधिक लाभ मिलेगा

प्रधानमंत्री ने कहा कि औद्योगिक निवेश को रोजगार सृजन से जोड़कर नीतियां बनायी जाती हैं और फैसले लिये जा रहे हैं. अलग अलग क्षेत्रों के हिसाब से अलग अलग नीतियां बनाकर काम किया जा रहा है. उत्तर प्रदेश में अब उद्योगपतियों के लिए लाल फीताशाही नहीं बल्कि 'रेड कारपेट' होगा. डिजिटल मंजूरी स्कीम इसी का उदाहरण है. ये सिंगल विण्डो पोर्टल होगा जिसके जरिए उद्यमियों को तय सीमा में आनलाइन अनुमति मिल जाया करेगी.

उन्होंने कहा कि 'वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट' योजना अपने आप में 'गेम चेंजर' है. उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार के समय मैं हमेशा कहता था कि जब राज्य को डबल इंजन की पावर मिलेगी तो विकास ओर तेज गति से होगा. वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट योजना को बैकअप पावर केंद्र की स्किल इंडिया, स्टैंड अप, स्टार्ट अप, प्रधानमंत्री रोजगार प्रोत्साहन योजना से मिलेगी. प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के माध्यम से सबसे अधिक लाभ मिलेगा.'

मोदी ने कहा कि वह एक महत्वपूर्ण घोषणा करने जा रहे हैं, जो ना सिर्फ उत्तर प्रदेश बल्कि पूरे हिंदुस्तान के लिए महत्वपूर्ण घोषणा है. उन्होंने कहा कि इस वर्ष बजट में प्रस्ताव रखा गया था कि देश में दो रक्षा औद्योगिक कॉरिडोर का निर्माण होगा. इनमें से एक उत्तर प्रदेश में प्रस्तावित है.

उन्होंने कहा कि राज्य में लखनऊ, वाराणसी और गोरखपुर में तीन हवाई अड्डे पहले से हैं. अब कुशीनगर और जेवर में दो नए अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बनाने का काम शुरू किया जा रहा है. उड़ान योजना के तहत आगरा, कानपुर, इलाहाबाद, बरेली, झांसी, चित्रकूट, मुरादाबाद, अलीगढ़ और आजमगढ़ जैसे 11 शहरों में हवाई अड्डों को विकसित किया जा रहा है. जल्द ही इन शहरों में भी हवाई उड़ान की सुविधा उपलब्ध होगी.

उन्होंने कहा, 'मेरा सपना है कि हवाई चप्प्ल पहनने वाला हवाई जहाज में सफर करने वाला बनना चाहिए.' प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई कि इन्वेस्टर्स समिट उत्तर प्रदेश में नये निवेश की संभावनाओं के नये द्वार खोलने में सफल होगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi