S M L

जनवरी से मार्च तक प्रयागराज में रहेगी शादियों पर रोक, योगी सरकार का फरमान

यूपी सरकार ने एक आदेश जारी करते हुए अगले साल जनवरी, फरवरी और मार्च में होने वाले कुंभ मेले के प्रमुख स्नानों के दौरान एक दिन पहले और एक दिन बाद में शादियों पर पाबंदी लगा दी है

Updated On: Dec 01, 2018 11:18 AM IST

FP Staff

0
जनवरी से मार्च तक प्रयागराज में रहेगी शादियों पर रोक, योगी सरकार का फरमान

कुंभ महामेला 01 जनवरी 2019 से शुरू हो जाएगा. इसके लिए जिला प्रशासन ने अपनी तैयारियां लगभग पूरी कर ली हैं. वहीं, कुंभ मेले के दौरान योगी सरकार ने शादियों पर रोक लगा दी है. न्यूज 18 की रिपोर्ट के अनुसार, यूपी सरकार ने एक आदेश जारी करते हुए अगले साल जनवरी, फरवरी और मार्च में होने वाले कुंभ मेले के प्रमुख स्नानों के दौरान एक दिन पहले और एक दिन बाद में शादियों पर पाबंदी लगा दी है. इस आदेश की कॉपी सभी मैरेज हॉल में भेज दी गई है.

होटल मालिकों को बुकिंग कैंसिल करनी पड़ सकती है

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रयागराज में 2019 के कुंभ मेले के पांच प्रमुख स्नान पर्वों के दिन के आसपास न तो कोई शादी होगी और न ही कोई निकाह पढ़ा जाएगा. सरकार ने इस आदेश की कॉपी सभी मैरेज हॉल में भेज दी है जिसके बाद से लोगों में खलबली मच गई है. बता दें कि यूपी सरकार का ऐसा आदेश आने के बाद जिनके घरों में शादी है, वे असमंजस की स्थिति में पड़ गए हैं. वहीं, आदेश की कॉपी मिलने के बाद होटल और बैंक्विट मालिकों को अपनी बुकिंग कैंसिल करनी पड़ सकती है. ऐसा करने से उन्हें लाखों रुपए का नुकसान हो सकता है.

फरवरी में मौनी अमावस्या, बसंत पंचमी और माघी पूर्णिमा का स्नान है

बता दें कि कुंभ मेला प्रयागराज में जनवरी महीने से शुरू हो जाएगा. स्नान के आसपास की अवधि में सरकार ने एक सर्कुलर जारी करके सभी मैरिज हॉल और होटलों को भेजा है कि वह कुंभ के स्नान के न तो एक दिन पहले कोई शादी की बुकिंग करें और न ही स्नान के एक दिन बाद. कुंभ में जनवरी महीने में मकर सक्रांति, और पौष पूर्णिमा स्नान है जबकि फरवरी में मौनी अमावस्या, बसंत पंचमी और माघी पूर्णिमा का स्नान है. वहीं मार्च के महीने में महाशिवरात्रि का स्नान होगा जिसमें करोड़ों श्रद्धालु संगम में डुबकी लगाकर मोक्ष की कामना करेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi