S M L

प. बंगाल में बना दुनिया का सबसे बड़ा और भारी-भरकम रसगुल्ला

9 किलो वजन के रसगुल्ले को बनाने के लिए 150 किलोग्राम चीनी, साढ़े 5 किलोग्राम कॉटेज पनीर और 400 ग्राम मैदा का उपयोग किया गया

FP Staff Updated On: Nov 28, 2017 02:58 PM IST

0
प. बंगाल में बना दुनिया का सबसे बड़ा और भारी-भरकम रसगुल्ला

रसगुल्ला का नाम सुनते ही हर किसी के मुंह में पानी भर आता है. मुंह में यकायक मिठास घुलने का एहसास होता है. रसगुल्ला कितना भी खाएं मन नहीं भरता, इसे और खाने की इच्छा होती है. खासकर अगर आप बंगाली हैं तो फिर आपका रसगुल्ला प्रेम हर बात में छलक जाता है.

मशहूर रसगुल्ले के लिए ज्योग्राफिकल इंडिकेशंस ऑफ गुड्स रजिस्ट्रेशन (जीआई टैग) की लड़ाई में ओडिशा पर जीत हासिल करने के बाद पश्चिम बंगाल ने एक और कीर्तिमान स्थापित किया है.

बंगाल में दुनिया का सबसे बड़ा और वजनी रसगुल्ला तैयार किया गया है. 9 किलो के भारी-भरकम रसगुल्ला मिठाई का निर्माण जीत का जश्न और विजय को यादगार बनाने के लिए किया गया है.

नाडिया जिले में दो स्वयं सहायता समूहों ने साथ मिलकर इस विशालकाय रसगुल्ले को तैयार किया है. रस से भरे इस मिठाई को बनाने में बड़ी मात्रा में खाद्य सामाग्री का उपयोग किया गया.

पांच हलवाइयों और कई सहायकों ने मिठाई बनाने में लगने वाले सामानों को जुटाया. 9 किलो वजन वाला रसगुल्ला बनाने के लिए 150 किलोग्राम चीनी, साढ़े 5 किलोग्राम कॉटेज पनीर और 400 ग्राम मैदा इक्टठा किया गया.

इस कार्यक्रम का आयोजन करने वाले स्वयं सहायता समूह जूनियर वन हंड्रेड के सदस्य अभिनबा बसाक ने कहा कि यह अचरज से भरा था. बसाक ने कहा, 'तैयार रसगुल्ले को हमने इलाके के 400 लोगों को खिलाकर उनका मुंह मीठा किया. हमने भौगोलिक संकेत (जीआई टैग) की लड़ाई में मिली जीत को मनाने के लिए ऐसा किया.'

स्वयं-सहायता समूहों के सहयोगियों ने बताया कि विशालकाय मिठाई बनाकर उन्होंने हर्धन मंडल को सम्मानित करने का काम किया है. हर्धन मंडल को ही रसगुल्ले का असली आविष्कारक माना जाता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi