S M L

शादी में बैंड-बाजा हुआ तो निकाह नहीं करवाएंगे काजी

देवबंद शहर के काज़ी मुफ्ती अज़हर हुसैन ने कहा कि निकाह के दौरान गाने और नाच को इस्लाम में हराम बताया है

Updated On: Apr 02, 2018 06:13 PM IST

FP Staff

0
शादी में बैंड-बाजा हुआ तो निकाह नहीं करवाएंगे काजी

इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद के एक काज़ी ने निकाह को लेकर अजीबोगरीब नियम बताया है. देवबंद शहर के काज़ी मुफ्ती अज़हर हुसैन ने कहा कि निकाह के दौरान गाने और नाच को इस्लाम में हराम बताया है और कहा है कि काज़ी ऐसे निकाह नहीं कराएंगे, जिसमें नाच-गाना होगा.

काज़ी मुफ्ती के ने बताया, 'हम ऐसे निकाह नहीं करवाएंगे, जिनमें नाच-गाने या डीजे की व्यवस्था होगी. यह इस्लाम के खिलाफ है और हम ऐसी शादियों का बहिष्कार करेंगे.'

उन्होंने यह भी कहा है कि अगर निकाह से पहले नाच-गाना हो चुका हो, तो निकाह कराया जा सकता है. हालांकि इसमें भी एक शर्त है, वह यह कि इस बारे में काज़ी को पता ना हो. मतलब अगर निकाह से पहले गाना और नाच हो चुका हो और काज़ी इससे अनजान हो, तो कोई समस्या नहीं है.'

इससे पहले भी मुस्लिम मौलानाओं ने शादी में गाने और नाच होने पर सवाल उठाया और कहा है कि इससे बेवजह खर्च का बोझ बढ़ता है. कोटा राजस्थान के मौलाना पहले ही मुस्लिम शादियों में डीजे, लाउड म्यूजिक और बैंड को बैन कर चुके हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi