S M L

पति की मौत पर नहीं रोई पत्नी तो कोर्ट ने सुना दी उम्रकैद की सजा!

कोर्ट ने महिला को केवल इसलिए पति की हत्या का दोषी माना था क्योंकि महिला अपने पति की मौत पर रोई नहीं थी.

Updated On: Nov 01, 2018 02:58 PM IST

FP Staff

0
पति की मौत पर नहीं रोई पत्नी तो कोर्ट ने सुना दी उम्रकैद की सजा!
Loading...

असम में एक पत्नी द्वारा पति की हत्या के मामले में अनोखा मोड़ आया जब सुप्रीम कोर्ट ने पत्नी को बरी करने का आदेश दिया. दरअसल असम में एक पत्नी को अपने पति की हत्या के लिए दोषी माना गया था और उसे उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी. पत्नी बीते 5 सालों से जेल में बंद है.

टीओआई के मुताबिक इस मामले में अनोखी बात यह सामने आई है कि कोर्ट ने महिला को केवल इसलिए पति की हत्या का दोषी माना था क्योंकि महिला अपने पति की मौत पर रोई नहीं थी. बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने 'महिला के न रोने वाले तर्क' को खारिज कर दिया और उसे बरी करने का आदेश दिया.

निचली अदालत ने महिला को सिर्फ इस आधार पर सजा सुनाई थी कि वह रोई नहीं थी. हैरानी की बात यह है कि गुवाहाटी हाईकोर्ट ने भी इस सजा को बरकरार रखा था. गुवाहाटी हाईकोर्ट का कहना था कि महिला अपने पति की मौत पर नहीं रोई, यह एक अप्राकृतिक व्यवहार है, जो महिला को दोषी साबित करता है.

वहीं जब निचली अदालत ने महिला को सजा सुनाई थी तो तर्क दिया था कि हत्या की रात महिला अपने पति के साथ थी और वह हत्या के बाद रोई भी नहीं थी. इसलिए महिला पर शक जाता है कि उसने ही अपने पति की हत्या की.

हालांकि जब यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा तो जस्टिस आरएफ नरीमन और जस्टिस नवीन सिन्हा की बेंच ने कहा कि जो सबूत पेश किए गए हैं उससे यह साबित नहीं होता कि महिला ने अपने पति की हत्या की. इसलिए महिला को जेल से रिहा किया जाए.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi