S M L

मछुआरा समुदाय ने जस्टिस चंद्रचूड़ से क्यों की कमेंट वापस लेने की मांग?

प्रेस रिलीज में कहा 'मछली बाजार की गतिविधि क्यों परेशान करने वाली है और इस कमेंट से मछुआरों के समुदाय की बदनामी हुई है'

Updated On: Feb 08, 2018 09:14 PM IST

FP Staff

0
मछुआरा समुदाय ने जस्टिस चंद्रचूड़ से क्यों की कमेंट वापस लेने की मांग?

नेशनल फिशरफोक फोरम ने सुप्रीम कोर्ट के जज डी.वाई चंद्रचूड़ से उनके उस बयान को वापस लेने के लिए कहा है जिसमें उन्होंने कोर्ट में चल रही बहस की 'मछली बाजार' से तुलना की थी.

संगठन के मुताबिक जस्टिस चंद्रचूड़ की टिप्पणी ने मछुआरों को अपमानित किया है, जबकि इसका इस मामले से कुछ भी लेना देना नहीं था.

सोमवार को जस्टिस लोया की डेथ केस की सुनवाई के दौरान वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे और पल्लव सिसोदिया में गरमागरम बहस होने लगी, दोनों एक दूसरे पर आरोप लगा रहे थे. वह इस मामले की जांच की मांग कर रहे थे.

इस बीच दोनों को चुप करवाने के लिए जस्टिस चंद्रचूड़ ने टिप्पणी की 'यह स्थिति मछली बाजार से भी खराब है. हमने बहस का स्तर मछली बाजार से भी नीचे नहीं गिराना चाहिए.'

मीडिया ने इस कमेंट की व्यापक रिपोर्ट की थी और इसके बाद भी बहस नहीं रुकी. अपनी प्रेस रिलीज में NFF चेयरमैन ने कहा 'जज की टिप्पणी से मछुआरों के समुदाय को ठेस पहुंची है. इस शब्द (मछली बाजार) का केस से कुछ भी लेना देना नहीं था.'

प्रेस रिलीज में कहा 'मछली बाजार की गतिविधि क्यों परेशान करने वाली है? और इस कमेंट से मछुआरों के समुदाय की बदनामी हुई है.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi