S M L

आखिर क्या है 'रैट फीवर' जो केरल में निगल चुका है 43 लोगों की जिंदगियां

केरल में इस बीमारी की ख़बरें बाढ़ आने के साथ ही आनी शुरू हो गई थीं. केवल अगस्त में इसके 559 केस और 34 संभावित मौतों की बात कही जा रही है

Updated On: Sep 03, 2018 04:49 PM IST

FP Staff

0
आखिर क्या है 'रैट फीवर' जो केरल में निगल चुका है 43 लोगों की जिंदगियां

पिछले फाफी दिनों तक बाढ़ से जूझने के बाद केरल अब एक नई मुसीबत का सामना कर रहा है. दरअसल बाढ़ के बाद राज्य में अब बीमारियों का दौर शुरू हो चुका है. इसमें सबसे खतरनाक बीमारी है 'रैट फीवर'. बताया जा रहा है कि रैट फीवर के चलते केरल में अब तक 43 लोगों की मौत हो चुकी है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी अब अलर्ट जारी करते हुए इस रोग से बचाव के लिए तरीके अपनाने शुरू कर दिए हैं. इसी के साथ लोगों से उचित सावधानी बरतने की अपील भी की जा रही है.

क्या है रैट फीवर?

रैट फीवर बेक्टीरिया से फैलने वाली बीमारी है जो खासकर गंदी मिट्टी और और गंदे पानी में फैलते हैं. रैट फीवर का बैक्टीरिया किसी जानवर के जरिए गंदे पानी या गंदी मिट्टी में पहुंचता और धीरे धीरे लोगों में फैल जाता है

केरल में इस बीमारी की ख़बरें बाढ़ आने के साथ ही आनी शुरू हो गई थीं. केवल अगस्त में इसके 559 केस और 34 संभावित मौतों की बात कही जा रही है. हालांकि केरल के स्वास्थ्य विभाग ने अगस्त महीने में केवल 229 केस और 6 संभावित मौतों के आंकड़े की पुष्टि की है.

कैसे फैलती है ये बीमारी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (who) के मुताबिक जंगली और पालतु दोनों तरह के जानवरों का इस बीमारी को फैलाने में बड़ा हा थ होता है. अगर किसी की त्वचा दूषित पानी में डूबने या तैरने की वजह से बैक्टीरिया के संपर्क में आई है तो उन्हें ये बीमारी हो सकती है. इस दौरान अगर शरीर पर पहले से ही किसी तरह का घाव हो तो इस तरह के बैक्टीरिया जल्द ही संपर्क में आते हैं. रैट फीवर के बैक्टीरिया उस भीगी मिट्टी, घास या पौधों में जिंदा रहते हैं जिनपर इस बैक्टीरिया से ग्रसित जानवर ने पेशाब किया होता है. कभी-कभी इसका संक्रमण बैक्टीरिया से दूषित खाना खाने, कोई दूषित चीज चुभ जाने या फिर किसी बैक्टीरिया से दूषित पेय पदार्थ पीने से भी हो सकता है.

सबसे ज्यादा किन अंगों पर पड़ता है रैट फीवर का असर

रैट फीवर का असर सबसे ज्यादा किडनी पर, दिमाग पर, और लीवर पर पड़ता है. इस बीमारी के असर से लोगों के मेनिनजाइटिस जैसी जानलेवा बीमारी हो सकती है, वहीं कई लोगों का लीवर फेल भी हो जाता है. इस बीमारी के असर से कई बार लोगों को सांस लेने में मुश्किल होती है. इसके अलावा सांस की नली से जुड़े भी कई रोग हो सकते हैं.

क्या है रैट फीवर के लक्षण

तेज बुखार सिरदर्द शरीर में दर्द पेट में दर्द उल्टियां होना

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi