S M L

क्या है मां कावेरी स्टैच्यू और क्या है इसकी खासियत, जानिए

माना जा रहा है कि 400 एकड़ में बनने जा रहे मां कावेरी के इस टॉवर को बनाने में 1200 करोड़ रुपए का खर्च आएगा

Updated On: Nov 16, 2018 06:22 PM IST

FP Staff

0
क्या है मां कावेरी स्टैच्यू और क्या है इसकी खासियत, जानिए

कर्नाटक सरकार ने मंड्या जिले में 125 फिट लंबी मां कावेरी की मूर्ति बनाने का ऐलान किया है. यह मूर्ति कावेरी नदी को समर्पित की जाएगी, जिसे मां की श्रेणी में रखा जाता है. हालांकि कर्नाटक सरकार में मंत्री डी.शिवकुमार ने कहा है कि यह मूर्ति नहीं, टॉवर की तरह होगी. इसके लिए जमीन पहले से तय कर ली गई है और यह निवेशकों के निवेश से बनाई जएगी, सरकारी पूंजी से नहीं.

माना जा रहा है कि 400 एकड़ में बनने जा रहे मां कावेरी के इस टॉवर को बनाने में 1200 करोड़ रुपए का खर्च आएगा. इस पूरी परियोजना के पूरा होने में दो वर्षों का समय लग सकता है. 400 एकड़ की जमीन में कावेरी की मूर्ति के अलावा एक संग्रहालय परिसर, 360 फीट वाले दो ग्लास हाउस, जिसमें जलाशय, एक बैंडस्टैंड, एक इनडोर स्टेडियम और ऐतिहासिक स्मारकों की प्रतिकृतियां शामिल होंगी. इसका निर्माण मांड्या जिले में कृष्णा राजा सागर के पास किया जाएगा.

कर्नाटक के कोडागु की पश्चिमी घाटों की तलहटी से निकलने वाली कावेरी नदी दक्षिण भारत में गोदावरी और कृष्णा के बाद तीसरी सबसे बड़ी नदी है. 'दक्षिणी गंगा' या दक्षिण की गंगा, कर्नाटक और तमिलनाडु की आर्थिक रीढ़ की हड्डी है. यह दोनों राज्यों के संगीत और साहित्य में मनाया जाता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi