S M L

फिर से परीक्षा कराने का निर्णय छात्रों के हित में: सीबीएसई प्रमुख

अनीता ने कहा कि हमने पूरी निष्पक्षता के साथ यह निर्णय छात्रों के हित में लिया है, बहुत जल्द हम तारीखों (दोबारा परीक्षा लेने की) की घोषणा करेंगे

FP Staff Updated On: Mar 30, 2018 09:07 AM IST

0
फिर से परीक्षा कराने का निर्णय छात्रों के हित में: सीबीएसई प्रमुख

बोर्ड परीक्षा के पेपर लीक होने और दोबारा परीक्षा कराए जाने की घोषणा से छात्रों के निशाने पर आईं सीबीएसई प्रमुख अनीता करवाल ने गुरुवार को कहा कि दो विषयों की परीक्षा दोबारा कराने का निर्णय छात्रों के हित में है और परीक्षाओं की तिथियों की घोषणा शीघ्र की जाएगी.

सीबीएसई प्रमुख का यह बयान गुरुवार को सर्कुलर जारी होने के बाद आया है. इसमें कहा गया था कि छात्रों को 10वीं की गणित की और 12वीं की अर्थशास्त्र की परीक्षा दोबारा देनी होगी.

अनीता ने कहा कि हमने पूरी निष्पक्षता के साथ यह निर्णय छात्रों के हित में लिया है. बहुत जल्द हम तारीखों (दोबारा परीक्षा लेने की) की घोषणा करेंगे. आगे भी कोई निर्णय छात्रों के हित में ही लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि छात्रों को किसी बात की चिंता करने की जरूरत नहीं है. हम उनके साथ हैं.

वहीं, कांग्रेस ने इस मामले में अनीता को पद से हटाने की मांग की है. इसके साथ ही विपक्षी पार्टियां केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावडेकर के इस्तीफे की मांग के साथ - साथ मामले की जांच हाईकोर्ट के जस्टिस से कराने की मांग कर रहीं हैं.

जावडेकर ने सीबीएसई परीक्षा पेपर लीक मामले को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है और कहा कि दोषी बच नहीं पाएंगे. उन्होंने कहा कि इससे निष्पक्षतापूर्वक परीक्षा करने के लिए जाने जाने वाले सीबीएसई की साख पर दाग लगा है, इसलिए मामले की पूरी जांच की जाएगी.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी ने भी मामले को ‘बेहद गंभीरता’ से लिया है. वहीं, एक सूत्र ने बताया कि जावडेकर ने इस मामले में दिन में अनीता सहित उच्च अधिकारियों से बातचीत की थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
DRONACHARYA: योगेश्वर दत्त से सीखिए फितले दांव

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi