live
S M L

आज भी लोग करते हैं मंदिर, मस्जिद बनाने की बातें :अमजद अली

अमजद ने कहा कुछ प्रवासी भावनात्मक रूप से हमारी संस्कृति से जुड़े हैं लेकिन कुछ अप्रवासी भारतीय बेहद कट्टर हैं

Updated On: Mar 29, 2017 06:05 PM IST

Bhasha

0
आज भी लोग करते हैं मंदिर, मस्जिद बनाने की बातें :अमजद अली

प्रख्यात सरोद वादक अमजद अली खान का कहना है कि यह दुखद है कि शिक्षा लोगों को एक दूसरे के प्रति हमदर्द बनाने में नाकाम रही. दुर्भाग्य से कुछ लोग आज के दौर में भी मंदिर और मस्जिद बनाने के बारे में बात करते हैं.

यह पूछे जाने पर कि क्या प्रवासी भारतीय अतीत के सांस्कृतिक संदर्भो में उलझे हुए हैं. खान ने कहा कि वे  महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं लेकिन बेहद शिक्षित होने के बावजूद वे कट्टरपंथी भी हो सकते हैं.

अपनी बुक रिलीज के मौके पर बोल रहे थे अमजद

उन्होंने कहा, मैं यह देखकर बेहद दुखी हूं कि वो चाहे प्रवासी हों या शिक्षित भारतीय लोग, वह अब भी मंदिरों और मस्जिदों को बनाने की बात कर रहे हैं. कुछ प्रवासी भावनात्मक रूप से हमारी संस्कृति और परंपराओं से जुड़े हैं लेकिन कुछ अप्रवासी भारतीय बेहद कट्टर हैं. वे बेहद शिक्षित भी हैं.’ खान ने ये बातें अपनी किताब ‘मास्टर ऑन मास्टर्स’ के विमोचन के मौके पर बोलीं.

इस किताब में 20वीं शताब्दी के 12 प्रख्यात संगीतज्ञों का जिक्र है जिनमें बड़े गुलाम अली खान, आमिर खान, बेगम अख्तर, अल्ला रक्खा, केसरबाई केरकर, कुमार गंधर्व, एम एस सुब्बालक्ष्मी, भीमसेन जोशी, बिस्मिल्लाह खान, रवि शंकर, विलायत खान और किशन महाराज का नाम शामिल है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi