S M L

विवेक तिवारी हत्याकांडः केजरीवाल ने बीजेपी से किया सवाल, विवेक तिवारी तो हिंदू था फिर क्यों मार दिया?

एक तरफ जहां समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस घटना की निंदा की वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी बीजेपी के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद की

Updated On: Sep 30, 2018 06:22 PM IST

FP Staff

0
विवेक तिवारी हत्याकांडः केजरीवाल ने बीजेपी से किया सवाल, विवेक तिवारी तो हिंदू था फिर क्यों मार दिया?

पुलिस कॉन्स्टेबल की गोली से बीते शुक्रवार को मारे गए एपल के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी का आज सुबह अंतिम संस्कार कर दिया गया. उनके बड़े भाई ने उन्हें मुखाग्नि दी. इसी बीच विवेक तिवारी की मौत को लेकर राजनीति भी शुरू हो गई है. यह एक बड़ा राजनीतिक मुद्दा बन गया है.

एक तरफ जहां समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस घटना की निंदा की वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी बीजेपी के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद की. सीएम केजरीवाल ने बीजेपी की तरफ निाना साधते हुए उनसे मौत के कारणों का सवाल पूछा. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि विवेक तिवारी तो हिंदू था? फिर उसको इन्होंने क्यों मारा? बीजेपी के नेता पूरे देश में हिंदू लड़कियों का रेप करते घूमते हैं? उन्होंने आगे लिखा- अपनी आँखों से पर्दा हटाइए. बीजेपी हिंदुओं की हितैषी नहीं है. सत्ता पाने के लिए अगर इन्हें सारे हिंदुओं का कत्ल करना पड़े तो ये दो मिनट नहीं सोचेंगे. केजरीवाल ने विवेक तिवारी की हत्या को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा है.

इस ट्वीट के थोड़ी देर बाद ही उन्होंने मृतक विवेक तिवारी की पत्नी कल्पना तिवारी से फोन पर बात भी की. फिर एक और ट्वीट लिखा- एक बेगुनाह हिन्दू को दिनदहाड़े गोली मार दी. उनके हत्यारे से थाने में बिठा कर प्रेस कॉन्फ्रेंस करवाते हो. आपका मंत्री उनको अपराधी घोषित करता है. उनके लिए जब हम न्याय मांगते हैं तो भाजपा वाले कहते हैं हमारी औछी सोच है?

वहीं सीएम केजरीवाल के ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर ट्विटर वॉर शुरू हो गया है. कपिल मिश्रा ने रीट्वीट करते हुए कहा, 'आप मोदी और बीजेपी के विरोध में पागल हो चुके हैं, इलाज करवाइये.'

वहीं, दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने इसे अरविंद केजरीवाल की औछी सोच करार दिया. तिवारी ने ट्वीट किया, 'आप कार्यकर्ता केजरीवाल की औछी सोच देख लो.' दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि विवेक तिवारी की हत्या हुई है, कसूरवार को सजा मिलेगी, हम उसके परिवार के साथ खड़े हैं.

आपको बता दें कि मृतक विवेक की पत्नी ने बताया कि उनकी ओर से 1 करोड़ रुपए के मुआवजे की मांग की जगह 25 लाख रुपए मुआवजा दिया गया और बताया गया कि ऐक्सिडेंटल डेथ में इससे अधिक मुआवजा नहीं दिया जा सकता. कल्पना ने कहा कि यह ऐक्सिडेंट नहीं, मर्डर है. हालांकि, इस बीच प्रशासनिक अधिकारियों और पुलिस की ओर से बनाए जा रहे दबाव की बात का खंडन करते हुए उन्होंने कहा कि अधिकारी जितना कर सकते हैं, कर रहे हैं. उन्हें अधिकारियों से कोई शिकायत नहीं है. उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने उनकी मदद की है और उनके समझाने पर ही परिवार अंतिम संस्कार को राजी हुआ है. उनके परिवार में दो बेटियां, बूढ़ी सास, दिव्यांग बड़े भाई और उनका परिवार है. इन सबकी जिम्मेदारी विवेक पर थी जो घर के अकेले कमाने वाले सदस्य थे. उन्हें अपनी बेटियों की भविष्य बनाना है, उनका तो खत्म हो गया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi