S M L

विवेक तिवारी हत्याकांड: दूसरी CCTV फुटेज आई सामने

सीसीटीवी फुटेज के सामने आने के बाद पुलिस की तरफ से किए जा रहे दावे अब झठे मालूम पड़ रहे हैं

Updated On: Oct 01, 2018 01:47 PM IST

FP Staff

0
विवेक तिवारी हत्याकांड: दूसरी CCTV फुटेज आई सामने

विवेक तिवारी हत्याकांड में अब एक दूसरी सीसीटीवी फुटेज सामने आई है. इससे पहले एक और सीसीटीवी फुटेज सामने आई थी जिसमें विवेक तिवारी की गाड़ी 1.19AM पर लखनऊ में गोमती नगर इलाके में जाती हुई पाई गई थी.

वहीं अब दूसरी फुटेज में पुलिस की गाड़ी दिखाई दी है जो करीब 1.24 AM पर बिलकुल नॉर्मल स्पीड पर जाती हुई दिख रही है. ये फुटेज विवेक तिवारी की हत्या से कुछ मिनट पहले की है. हालांकि इस फुटेज को देख कर ऐसा बिल्कुल नहीं लग रहा कि पुलिस किसी तरह की जल्दबाजी में है या फिर किसी का पीछा कर रही है.

दरसल इस मामले में आरोपी प्रशांत ने आरोप लगाया था कि गोली चलाने से पहले  विवेक ने उसपर गाड़ी चढ़ाने की कोशिश की थी. जिसके बाद सेल्फ डिफेंस में उसने गोली चलाई. उसने कहा था कि गाड़ी खड़ी हुई थी और लाइट्स बंद थीं. संदेह होने पर वह उस गाड़ी के करीब गया. गाड़ी के पास जाते ही कार को ड्राइव कर रहा व्यक्ति (विवेक तिवारी) वहां भागने लगा. कॉन्स्टेबल ने बताया- विवेक ने उसे कार से तीन बार मारने की कोशिश की. अपनी जान बचाने के लिए ही उस शख्स पर गोली चलानी पड़ी.

बताया जा रहा है कि ये पूरी वारदात डेढ़ बजे के करीब हुई. लेकिन सीसीटीवी फुटेज में विवेक तिवारी की कार 1.19 am पर नॉर्मल स्पीड पर जाती हुई दिखी जिससे आरोपी प्रशांत का पहला बयान अपने आप खारिज हो जाता है कि गाड़ी खड़ी हुई थी. वहीं दूसरी फुटेज में भी पुलिस किसी जल्दबाजी में नहीं दिख और एक नॉर्मल स्पीड में गुजरती हुई दिख रही है. इस सीसीटीवी फुटेज से पुलिस की तरफ से किए जा रहे दावे अब झूठे मालूम पड़ रहे हैं.

सीएम से मिलीं कल्पना तिवारी

वहीं दूसरी तरफ मृतक की पत्नी कल्पना तिवारीने नई एफआईआर दर्ज कराने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की और उनसे गुहार लगाई की दोषी को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए.

सीएम से मिलने के बाद कल्पना ने बताया कि मुख्यमंत्री ने उनकी सारी बातें विस्तार से सुनीं और उन्हें हर जरूरी मदद करने का आश्वासन दिया. कल्पना ने कहा कि उन्हें पहले भी राज्य सरकार पर भरोसा था और सीएम से मिलकर ये भरोसा और मजबूत हो गया

इससे पहले कल्पना ने सना के बयान के आधार पर अपनी एफआईआर में आगे लिखा है- 'ठुड्डी में गोली लगी और आधा किलोमीटर बाद गाड़ी सब वे के खंभे से जाकर टकरा गई. इस बीच वहां जो पुलिसवाले आए, उन्होंने न किसी को फोन करने दिया और न ही किसी का फोन उठाने दिया और जबरदस्ती सादे कागज पर मुझसे हस्ताक्षर करवा लिए और बाद में पुलिस के उच्चाधिकारियों के दबाव में मुझसे जबरदस्ती बोल-बोलकर उसी पन्ने पर लिखवाया भी गया. हालांकि मैं उस वक्त डरी हुई थी, इसलिए जो उन्होंने कहा लिखती चली गई.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi