S M L

'ट्रंप के आयडिया' पर एक हफ्ते में राम मंदिर का रास्ता साफ: तोगड़िया

ट्रंप के इमिग्रेशन बैन का दिया हवाला देकर संसद से कानून बनाने की बात कही

Updated On: Mar 05, 2017 12:54 PM IST

Bhasha

0
'ट्रंप के आयडिया' पर एक हफ्ते में राम मंदिर का रास्ता साफ: तोगड़िया

विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने शनिवार को मथुरा में एक कार्यशाला के दौरान दावा किया कि राम मंदिर निर्माण का फैसला ‘एक सप्ताह में’ लिया जा सकता है.

यह पूछे जाने पर कि केंद्र सरकार के उदासीन रवैये को देखते हुए क्या विहिप राम मंदिर मामले में कदम उठाएगी, तोगड़िया ने कहा, ‘करेंगे.’

तोगड़िया वृंदावन के परिक्रमा मार्ग स्थित धाम में विहिप के प्रचार-प्रसार विभाग द्वारा आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला में भाग लेने के लिए गए थे.

पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने भाजपा के एजेंडे में संवैधानिक तरीके से अयोध्या में राम मंदिर निर्माण किए जाने के प्रस्ताव पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘मंदिर निर्माण के लिए केवल एक सप्ताह का ही समय चाहिए.’

उन्होंने कहा, ‘आप जानना चाहेंगे, कैसे? सीधा सा रास्ता है यह निर्णय संसद में कानून बनाकर किया जा सकता है. इसके लिए सरकार को सिर्फ एक घंटे का समय चाहिए.’

ट्रंप के इमिग्रेशन बैन का किया जिक्र

उन्होंने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का जिक्र करते हुए कहा, ‘जब डोनाल्ड ट्रंप ऐसा कर सकते हैं तो भारत सरकार क्यों नहीं कर सकती. उन्होंने तो एक सप्ताह में ही सात मुस्लिम देशों के नागरिकों के अमेरिका में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया. फिर उनका आदेश अदालत में टिका या नहीं टिका, सवाल इस बात का नहीं है. उन्होंने तो अपनी इच्छा शक्ति जता ही दी.’

एनडीए सरकार के पास राज्यसभा में बहुमत न होने के सवाल पर उन्होंने दिलचस्प जवाब दिया.

सरकार यदि चाहे तो सब कुछ कर सकती है. हमारे यहां लोकसभा व राज्यसभा को एक साथ बिठाकर कानून बनाने की परंपरा रही है. ऐसा करके सरकार इस मसले का हल आसानी से निकाल सकती है.

विहिप अध्यक्ष ने किसानों की आत्महत्या पर हाईकोर्ट की टिप्पणी का जिक्र करते हुए कहा, ‘इस समय देश में किसानों की समस्या सबसे बड़ी समस्या है. किसान लगातार घाटे में जा रहे हैं और सरकार ने गेहूं खरीद के लिए जो दाम तय किए हैं, उससे भी कम दामों में विदेश से गेहूं आयात किया जा रहा है.’’

इस पर उन्होंने आगे जोड़ा, ‘यदि सरकार ने गेहूूं का आयात बंद करने का निर्णय नहीं लिया तो भारतीय किसानों को गेहूं खरीदने वाला कोई नहीं मिलेगा. सरकार को उनकी चिंता करनी चाहिए. पूरे देश में किसान दुखी हैं.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi