S M L

आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ चंदा कोचर के पति दीपक कोचर को आयकर विभाग का नोटिस

आयकर विभाग ने आईसीआईसीआई बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंदा कोचर के पति दीपक कोचर को नोटिस भेजा है.

Updated On: May 01, 2018 09:37 PM IST

Ravishankar Singh Ravishankar Singh

0
आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ चंदा कोचर के पति दीपक कोचर को आयकर विभाग का नोटिस

आयकर विभाग ने आईसीआईसीआई बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंदा कोचर के पति दीपक कोचर को नोटिस भेजा है. आईसीआईसीआई बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंदा कोचर साल 2012 में वीडियोकॉन ग्रुप को 3 हजार 250 करोड़ रुपए लोन देने के मामले में सवालों के घेरे में हैं. आयकर विभाग के नोटिस भेजने के बाद दीपक कोचर के साथ-साथ चंदा कोचर की मुश्किलें बढ़ सकती हैं.

आयकर विभाग ने आयकर अधिनियम की धारा 139(9) के तहत दीपक कोचर से उनके व्यक्तिगत आय के बारे में नोटिस भेजा है. अप्रैल महीने के शुरुआती सप्ताह में सीबीआई ने चंदा कोचर के देवर और उनके पति दीपक कोचर के भाई राजीव कोचर से भी पांच दिनों तक लंबी पूछताछ की थी.

आयकर विभाग ने दीपक कोचर को नोटिस भेजने से पहले न्यूपॉवर रिन्यूएबल्स को भी नोटिस भेज चुकी है. न्यूपॉवर रिन्यूएबल्स कंपनी चंदा कोचर के पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन समूह के प्रमुख वेणुगोपाल धूत की संयुक्त कंपनी है. इस कंपनी की नींव साल 2008 में रखी गई थी. मॉरीशस की एक और साझेदार कंपनी से भी भारतीय विदेश विभाग की कर संभाग ने संपर्क किया है.

सीबीआई ने पिछले दिनों ही न्यूपॉवर रिन्यूएबल्स के सीएफओ और कॉरपोरेट फाइनेंस के प्रमुख सुनील भूता से भी लंबी पूछताछ की थी. सुनील भूता न्यूपॉवर के अस्तित्व में आने के बाद से ही कंपनी के साथ जुड़े हुए हैं. कंपनी के सभी वित्तीय लेन-देन और कर संबंधी मामलों को वह साल 2008 से ही देख रहे हैं. सीबीआई ने इसके साथ ही कंपनी के दो निदेशकों से भी पिछले दिनों लंबी पूछताछ की थी.

राजीव कोचर, सुनील भूता और अब दीपक कोचर को आयकर विभाग की नोटिस ने आईसीआईसीआई बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंदा कोचर की मुश्किलें बढ़ा दी हैं. ऐसी खबर मिल रही है कि चंदा कोचर के पति दीपक कोचर से सीबीआई भी जल्द ही पूछताछ कर सकती है.

सीबीआई अपनी तफ्तीश में यह पता लगाना चाह रही है कि वीडियोकॉन समूह को लोन देने के मामले में आईसीआईसीआई बैंक के कुछ अधिकारियों को लोन के बदले कहीं मोटी रकम दो नहीं दी गई थी?

गौरतलब है कि बैंकों के जिस कंसोर्शियम या समूह ने वीडियोकॉन को कर्ज देने की अनुशंसा की थी, उसकी अगुवाई एसबीआई कर रहा था. इस समूह में आईसीआईसीआई बैंक भी शामिल था. साल 2012 में इस समूह के सदस्यों ने विडियोकॉन को 3 हजार 250 करोड़ रुपए देने का कर्ज मंजूर किया. बाद में कुछ लोन बैंकों के लिए नॉन-परफॉर्मिंग असेट्स की कैटेगरी में चले गए.

आईसीआईसीआई बैंक और वीडियोकॉन ग्रुप के एक निवेशक अरविंद गुप्ता ने आरोप लगाया था कि आईसीआईसीआई बैंक के सीईओ चंदा कोचर ने वीडियोकॉन को लोन मंजूर करने के बदले गलत तरीके से निजी लाभ लिया है.

सीबीआई अपनी जांच में पता लगा रही है कि चंदा कोचर पर वीडियोकॉन को कर्ज देने के लिए किसी ने दबाव डाला था या नहीं. सीबीआई सूत्रों के मुताबिक वीडियोकॉन के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत और आईसीआईसीआई बैंक की प्रमुख चंदा कोचर के पति दीपक कोचर को भी सीबीआई पूछताछ के लिए जल्दी बुला सकती है.

सीबीआई ने पिछले सप्ताह ही चंदा कोचर के पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन के मालिक वेणुगोपाल धूत के बीच कथित सांठगांठ की जांच के लिए मामला दर्ज किया था. शुरुआती जांच में चंदा कोचर का नाम नहीं है. इसके बावजूद वेणुगोपाल धूत, चंदा कोचर के पति दीपक कोचर और उनके भाई के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी है. लुकआउट नोटिस एक इंटरनल सर्कुलर जैसा होता है, जिसमें जांच एजेंसी को अपने हिसाब से लुकआउट नोटिस जारी होने वाले शख्स को गिरफ्तार करने से लेकर रोकने तक का अधिकार रहता है.

वीडियोकॉन समूह को लोन देने के मामले आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ चंदा कोचर लगातार चर्चा में बनी हुई हैं. मीडिया रिपोर्ट्स में चंदा कोचर और उनके परिवार का वीडियोकॉन ग्रुप से संबंध साल 2001 से होने की बात कही जा रही है. आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ बनने से पहले तक चंदा कोचर और उनके पति सहित परिवार के चार लोगों की हिस्सेदारी वीडियोकॉन समूह में थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता
Firstpost Hindi