S M L

ब्राह्मण नहीं होने पर नौकरानी के खिलाफ वैज्ञानिक ने दर्ज कराया मुकदमा

निर्मला पर आरोप यह है कि उसने अपनी जाति और वैवाहिक स्थिति छुपा कर खोले की 'धार्मिक भावनाओं' को आहत किया है

Updated On: Sep 09, 2017 03:38 PM IST

FP Staff

0
ब्राह्मण नहीं होने पर नौकरानी के खिलाफ वैज्ञानिक ने दर्ज कराया मुकदमा

दुनिया चांद और मंगल पर पहुंच रही है और भारत में आज भी कई पढ़े-लिखे माने जाने वाले लोग जातिवादी मानसिकता से ग्रसित हैं. आज ऐसे लोग छुआछूत को मानते हैं. पुणे में भारत के मौसम विज्ञान विभाग की वैज्ञानिक मेधा खोले ने अपने घर में काम कर रही 80 साल की निर्मला यादव के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है. निर्मला पर आरोप यह है कि उसने अपनी जाति और वैवाहिक स्थिति छुपा कर उनकी 'धार्मिक भावनाओं' को आहत किया है.

खोले ने अपनी शिकायत में कहा है कि उन्हें धार्मिक अवसरों के दौरान अपने घर में खाना पकाने के लिए एक विवाहित ब्राह्मण महिला की जरूरत थी. लेकिन निर्मला ने अपनी जाति और वैवाहिक स्थिति छिपाकर खुद को निर्मला कुलकर्णी बताया. महिला उनके घर साल 2016 से हर खास आयोजन पर खाना बनाने के लिए आती थीं.

मेधा खोले

मेधा खोले

सिंहगड़ पुलिस थाने से मिली जानकारी के अनुसार, शिवाजीनगर के सीता पार्क सोसायटी में मेधा खोले रहती है. मेधा के घर पर निर्मला यादव को धार्मिक सोवला नामक विधि के लिए रसोइया के तौर बुलाया गया था. इस विधि में खाना बनाने वाली महिला का ब्राह्मण और सुवासिनी (विवाहित और जीवित पति के साथ) होना जरूरी होता है.

धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाने का आरोप

खोले ने बताया, हाल ही में गणेश उत्सव के दौरान मेधा को महिला के ‘ब्राह्मण’ न होने की जानकारी मिली. इसके बाद शिकायतकर्ता स्पष्टीकरण मांगने के लिए महिला के घर गई. वहां जाकर उन्हें पता चला कि निर्मला जाति से 'यादव' हैं और विधवा हैं. खोले ने दावा किया कि यादव ने उनके साथ दुर्व्यवहार और हाथापाई भी की. इसके बाद मेधा ने धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने और धोखाधड़ी करने का केस दर्ज करवाया है.

medha

medha1

इस मामले को लेकर सिंहगढ़ पुलिस स्टेशन में भारतीय दंड संहिता की धारा 419 (आचरण द्वारा धोखाधड़ी), 352 (हमला या अपराधी बल के लिए सजा) और 504 (शांति का उल्लंघन करने के इरादे से जानबूझकर अपमान) के तहत शिकायत दर्ज की गई थी.

महिला पर शिकायत दर्ज होते बजरंग दल सहित कई संगठन महिला के बचाव में खड़े हो गए हैं. इस मामले को लेकर संभाजी ब्रिगेड के सदस्यों ने शुक्रवार को संयुक्त पुलिस आयुक्त रवींद्र कदम से मुलाकात की और खोले के खिलाफ कथित तौर पर जातिवाद को बढ़ावा देने के लिए कड़ी कार्रवाई करने की भी मांग की.

संभाजी ब्रिगेड के संतोष शिंदे ने कहा, ‘इस मामले को इकलौते रूप में न देखें, क्योंकि इसने सामाज पर गहरा प्रभाव डाला है.यह मामला उस व्यक्ति द्वारा दायर किया गया है जो सरकार के प्रमुख विभाग में एक महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं और खुद को वैज्ञानिक कहते हैं. मामला शिकायतकर्ता की जातिवादी मानसिकता को दर्शाता है.’

बजरंग दल के संपत चरवाना ने कहा, ‘हमने यादव से मुलाकात की और हमारा समर्थन बढ़ाया. हम यह भी मांग करते हैं कि मेधा खोले को माफी मांगनी चाहिए और अपनी शिकायत वापस लेनी चाहिए.’

इसी बीच, अखिल भारतीय ब्राह्मण महासंघ ने इस मामले को कानून के दायरे में लाने को अनुपयुक्त माना और कहा कि इस मुद्दे को पारस्परिक रूप से हल करना चाहिए.

साभार: न्यूज़18 हिंदी

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi