S M L

गाड़ियों में लगे कलर कोडेड स्टीकर बता देंगे पेट्रोल, डीजल या सीएनजी का पता

2 अक्टूबर से सभी चार पहिया वाहनों में कलर स्टीकर और हाई सेक्योरिटी रेजिस्ट्रेशन प्लेट (एचएसआरपी) लगे होंगे. बाकी गाड़ियों में स्टीकर और प्लेट बाद में लगाए जाएंगे

Updated On: Oct 02, 2018 06:32 PM IST

FP Staff

0
गाड़ियों में लगे कलर कोडेड स्टीकर बता देंगे पेट्रोल, डीजल या सीएनजी का पता

परिवहन मंत्रालय ने एनसीआर राज्यों को एक गाइडलाइन जारी की है. इसके तहत् राज्यों को ये सुनिश्चित करना होगा कि गाड़ियों के फ्रंट विंडशील्ड पर कलर कोडेड लगे हों. इससे यह पता लगाया जा सकेगा कि गाड़ी किस ईंधन पर चल रही है. अगर कोई भी व्यक्ति इस होलोग्राम को उखाड़ने की कोशिश करेगा तो वो खुद ब खुद नष्ट हो जाएंगे.

ये होलोग्राम तीन रंगो में आएंगे- पेट्रोल और सीएनजी गाड़ियों के लिए ब्लू और डीजल और अन्य ईंधन से चलने वाली गाड़ियों के लिए ग्रे. बिजली से चलने वाली गाड़ियों को किसी भी तरह के पहचान की जरुरत नहीं होगी क्योंकि सरकार ने ऐसी गाड़ियों को हरे रंग का नंबर प्लेट दिया है. इस स्कीम को लागू करने का आदेश सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया है.

दोपहिया वाहनों को इस तरह के स्टीकर लगाने की जरुरत नहीं है. दिल्ली के ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट के अधिकारी का कहना है- 2 अक्टूबर से सभी चार पहिया वाहनों में कलर स्टीकर और हाई सेक्योरिटी रेजिस्ट्रेशन प्लेट (एचएसआरपी) लगे होंगे. बाकी गाड़ियों में स्टीकर और प्लेट बाद में लगाए जाएंगे. ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट के अनुसार लगभग 40 लाख गाड़ियों में हाई सेक्योरिटी रेजिस्ट्रेशन प्लेट लगाने की जरुरत है.

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक परिवहन मंत्रालय एचएसआरपी नियमों में बदलाव कर रहा है ताकि कलर स्टीकर को डीलर के स्तर पर गाड़ियों में लगवा दिया जाए. इसमें कुछ हफ्ते लगेंगे. पूरी तरह से इसका पालन में कुछ समय लग सकता है क्योंकि राज्यों के ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट को स्टीकर भी प्राप्त करने होंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi