S M L

क्राइम के मामले में यूपी टॉप, एमपी में दर्ज हुए रेप के सर्वाधिक मामले

उत्तर प्रदेश में पिछले साल हत्या के 4,889 मामले दर्ज किए गए जिसके बाद बिहार का स्थान है जहां 2,581 हत्याएं हुईं

Updated On: Dec 01, 2017 09:20 AM IST

Bhasha

0
क्राइम के मामले में यूपी टॉप, एमपी में दर्ज हुए रेप के सर्वाधिक मामले

देश में पिछले साल हत्या और महिलाओं के खिलाफ वारदात जैसे जघन्य अपराध उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा संख्या में दर्ज किए गए.

वहीं, देश के 19 बड़े शहरों में दिल्ली सबसे असुरक्षित शहर रहा, जहां बलात्कार के करीब 40 फीसदी मामले और महिलाओं के खिलाफ अपराध के 33 फीसदी मामले दर्ज किए गए. एनसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में पिछले साल हत्या के सर्वाधिक- 4,889 मामले दर्ज किए गए, जो कुल मामलों का 16.1 फीसदी हैं. इसके बाद बिहार का स्थान है, जहां 2,581 हत्याएं हुई जो 8.4 फीसदी है.

साल 2016 के दौरान महिलाओं के खिलाफ हुए अपराध के कुल मामलों में यूपी में 49,262 मामले (14.5 फीसदी) दर्ज किए गए जिसके बाद पश्चिम बंगाल का स्थान है, जहां 32,513 मामले (9.6 फीसदी) दर्ज किए गए.

देश में बलात्कार के मामलों में साल 2015 के 34,651 मामलों की तुलना में साल 2016 में 12. 4 फीसदी की वृद्धि हुई और यह बढ़कर 38,947 हो गई.

सबसे ज्यादा रेप मध्य प्रदेश

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह द्वारा जारी किए गए एनसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल (राज्यों के मामले में) मध्य प्रदेश में सर्वाधिक संख्या में बलात्कार की 4,882 (12.5 फीसदी) घटनाएं दर्ज की गई, जिसके बाद यूपी का स्थान है. यूपी में बलात्कार की 4,816 (12.4 फीसदी) घटनाएं दर्ज की गई. इसके बाद महाराष्ट्र का स्थान है जहां इसकी 4,189 (10.7 फीसदी) घटनाएं दर्ज की गई.

साल 2015 से साल 2016 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामलों में 2.9 फीसदी की वृद्धि हुई. महिलाओं के खिलाफ अपराध के ज्यादातर मामलों को पति या उसके रिश्तेदारों ने अंजाम दिया. साल 2016 की रिपोर्ट के मुताबिक देश के 19 बड़े शहरों में दिल्ली में बलात्कार के 1,996 (40 फीसदी) मामले दर्ज किए गए. महिलाओं के खिलाफ अपराध के पिछले साल 33 फीसदी (13,803 वारदात) मामले दर्ज किए गए. इस मामले में मुंबई दूसरे स्थान पर जहां 12.3 फीसदी (5,128) मामले दर्ज किए गए. पुणे तीसरे स्थान पर है जहां बलात्कार के 354 मामले दर्ज किए गए.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi