S M L

बागपत में धरने पर बैठे गन्ना किसान की मौत, जमकर हुआ हंगामा

बड़ौत तहसील में किसान संघर्ष मोर्चा के बैनर तले 21 मई से किसान पांच सूत्रीय मांगों को लेकर धरने पर बैठे थे, मृतक किसान के परिवार को 12 लाख रुपए मुआवजा देने की घोषणा की गई है

Updated On: May 27, 2018 05:59 PM IST

Bhasha

0
बागपत में धरने पर बैठे गन्ना किसान की मौत, जमकर हुआ हंगामा

तहसील में 21 मई से धरने पर बैठे किसानों में से एक किसान की शनिवार को धरनास्थल पर मौत हो गई है. मृतक 60 वर्षीय किसान के परिवार को 12 लाख रुपए मुआवजा देने की घोषणा की गई है. दरअसल  किसान की मृत्यु के बाद आंदोलनकारी किसानों ने शव पुलिस को सौंपने से इनकार कर दिया था.

किसानों के आक्रोश को शांत करने के लिए मौके पर पहुंचे एसडीएम अरविंद कुमार द्विवेदी ने आंदोलनकारियों के बीच मृतक  किसान के परिवार वालों को शासन से 12 लाख रुपए मुआवजा दिलवाने की घोषणा की. इसके बाद किसानों ने शव को पोस्टमार्टम के लिए पुलिस को सौंपते हुए धरना खत्म कर दिया.

बता दें  घटनास्थल से करीब 30 किलोमीटर दूर बागपत में ही रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कार्यक्रम था. यहां पीएम मोदी इस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करने पहुंचे थे.

मौके पर पहुंचे आरएलडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने कहा कि वास्तव में जो आदमी अपने स्वार्थ की लड़ाई न लड़कर दूसरों के लिए कुर्बानी दे दे, उसे शहीद ही कहा जाता है.

बड़ौत तहसील में किसान संघर्ष मोर्चा के बैनर तले  21 मई से किसान पांच सूत्रीय मांगों को लेकर धरने पर बैठे थे. इन पांच मांगों में गन्ना किसानों के बकाया भुगतान की भी मांग की गई थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi