S M L

उर्जित ने बैंकिंग प्रणाली की अराजक स्थिति को संभाला, उनके नेतृत्व में आरबीआई में वित्तीय स्थिरता आई: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर कहा कि उर्जित अपने पीछे के एक महान विरासत छोड़कर जा रहे हैं. हम उन्हें मिस करेंगे

Updated On: Dec 10, 2018 07:20 PM IST

FP Staff

0
उर्जित ने बैंकिंग प्रणाली की अराजक स्थिति को संभाला, उनके नेतृत्व में आरबीआई में वित्तीय स्थिरता आई: मोदी

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर उर्जित पटेल ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. पटेल के इस्तीफे के बाद से ट्विटर पर प्रतिक्रियाओं की बाढ़ आ गई है. सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर कहा कि उर्जित अपने पीछे के एक महान विरासत छोड़कर जा रहे हैं. हम उन्हें मिस करेंगे. बीते 6 सालों से वह आरबीआई में थे.

प्रधानमंत्री ने कहा, पटेल ने बैंकिंग प्रणाली की अराजक स्थिति को संभाला है. उनके नेतृत्व में, आरबीआई में वित्तीय स्थिरता आई है.

पटेल के इस्तीफे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, विपक्षी नेताओं के बैठक के बीच में, हमें बताया गया कि आरबीआई गवर्नर ने इस्तीफा दे दिया क्योंकि वह अब सरकार के साथ काम नहीं कर पा रहे. कमरे में सर्वसम्मति थी कि हमें सीबीआई, आरबीआई, ईसी और संविधान पर हमारे संस्थानों पर बीजेपी के हमले को रोकना होगा.

आरबीआई के गर्वनर इस्तीफा दे रहे हैं क्योंकि वह आरबीआई की रक्षा कर रहे हैं. मुझे गर्व है कि ये सभी लोग इसके खिलाफ खड़े हो रहे हैं.

इधर अर्थशास्त्री और बीजेपी के सांसद सुब्रमण्यण स्वामी ने पटेल के इस्तीफे पर अफसोस जताते हुए कहा कि यह आरबीआई, सरकार और भारतीय अर्थव्यवस्था तीनों के लिए बुरी खबर है. उन्हें कम से कम जुलाई तक रुकना चाहिए था, जब तक दूसरी सरकार नहीं आ जाती. प्रधानमंत्री को फोन कर के पूछना चाहिए कि वो इस्तीफा क्यों दे रहे हैं. साथ ही सार्वजनिक हितों के देखते हुए उन्हें इस्तीफा वापस लेने के लिए मनाना चाहिए.

वहीं आरबीआई सेंट्रल बोर्ड के सदस्य एस.गुरुमूर्ति ने इस्तीफे की खबर को चौंकाने वाला बताते हुए कहा कि हमारी पिछली बैठक इतने सौहार्दपूर्ण माहौल में आयोजित की गई थी कि पटेल के अचानक इस्तीफा दे देना अजीब है. सभी निदेशकों ने कहा था कि मीडिया ने गलत धारणा बनाई है जबकि अंदर यह अलग था. इसके बाद पटेल का यह कदम और भी चौंकाता है.

पटेल के इस्तीफ पर रघुराम राजन ने कहा है कि सभी भारतीयों को चिंतित होना चाहिए. रघुराम राजन का कहना है कि एक सरकारी कर्मचारी के जरिए इस्तीफा देना विरोध को दर्शाता है. दरअसल, साल 2016 में राजन के इस्तीफे के बाद उर्जित पटेल को आरबीआई का गवर्नर बनाया गया था.

वहीं वरिष्ठ वकील और कांग्रेस से सांसद कपिल सिब्बल ने पटेल के इस्तीफे को प्रधानमंत्री से जोड़ते हुए कहा कि प्रधानमंत्री जिन-जिन लोगों को नियुक्त कर रहे हैं वो इस्तीफा दे दे रहे हैं. पहले अरविंद सुब्रमण्यन ने दिया और अब उर्जित पटेल ने. इससे अर्थव्यवस्था पर गहरा प्रभाव पड़ रहा है. मोदी सोचते हैं कि वह सबसे बड़ा अर्थशास्त्री है और उन्हें उनकी जरूरत नहीं है, इसलिए ये लोग इस्तीफा दे रहे हैं.

हालांकि पटेल ने अपने पद से इस्तीफ देते हुए कहा, 'निजी कारणों की वजह से मैंने तत्काल प्रभाव अपना पद छोड़ने का फैसला किया है. यह मेरे लिए बेहद सम्मान और गर्व की बात है कि मैंने RBI के इस पद पर इतने साल काम किया.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi