S M L

UPSC परीक्षार्थी की ऑटो ड्राइवर से हुई थी बहस, बदला लेने के लिए कर दी गार्ड की हत्या

मणिपुर के बेंजी सिंह की कुछ दिनों पहले एक ऑटोरिक्शा वाले से बहस हो गई थी, जिसके बाद से वो गुस्से में था

Updated On: Sep 27, 2018 04:44 PM IST

FP Staff

0
UPSC परीक्षार्थी की ऑटो ड्राइवर से हुई थी बहस, बदला लेने के लिए कर दी गार्ड की हत्या

डिप्रेशन और अनिद्रा से ग्रस्त यूपीएसएसी की तैयारी कर रहे 25 साल के एक लड़के ने कथित रूप से बुधवार को एक सिक्योरिडी गार्ड की हत्या कर दी. उस लड़के की पिछले हफ्ते एक ऑटोरिक्शा वाले से बहस हो गई थी, जिसका वो बदला लेना चाहता था. उस 65 साल के सिक्योरिटी गार्ड को उसने ऑटोरिक्शा वाला समझ लिया और उसकी हत्या कर दी.

हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक, मणिपुर के बेंजी सिंह की कुछ दिनों पहले एक ऑटोरिक्शा वाले से बहस हो गई थी, जिसके बाद से वो गुस्से में था. बुधवार को तड़के वो बाहर था तभी उसे एक ऑटोरिक्शा में सोते हुए एक व्यक्ति दिखा, जिसे उसने ऑटोरिक्शा ड्राइवर समझ लिया. गुस्से में वो अपने घर में गया और पेपर कटर लाकर उस पर हमला कर दिया.

पुलिस को इस घटना की जानकारी तड़के सुबह 3 बजे लगी. रिपोर्ट के मुताबिक, सिंह ने पुलिस को बताया कि वो सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रहा था और उसके अंदर अब तक आत्महत्या की भावना आ चुकी थी.

गार्ड की पहचान हुमायूंपुर में रहने वाले 65 साल के राम बहादुर खत्री के रूप में की गई, वो दिल्ली के सफदरजंद इन्क्लेव के B/6 ब्लॉक की चौकीदारी पर तैनात थे.

पुलिस को खत्री के परिवार ने बताया कि हमले में घायल हुए खत्री घटना की जगह से आधा किलोमीटर दूर अपने घर की ओर भागे और दरवाजे पर गिर गए. तकरीबन ढाई बजे पड़ोसियों के शोर मचाने से परिवार वालों की नींद खुली और ये भयावह घटना उनके सामने आई. खत्री को परिवार वाले एम्स ले जाने लगे लेकिन रास्ते में ही उनकी मौत हो गई.

खत्री पिछले 40 सालों से दिल्ली में रह रहे थे. हुमायूंपुर के एक किराए के मकान में वो, उनकी पत्नी, उनका छोटा बेटा-बहू और पोते-पोतियां रहते थे.

खत्री के बड़े बेटे ने बताया कि वो वॉचमैन की नौकरी करते थे. वो काफी विनम्र थे और उनका किसी झगड़ा नहीं था. वो कभी अपनी ड्यूटी नहीं छोड़ते थे, उम्मीद है कि लोगों की सुरक्षा के प्रति उनका समर्पण बेकार नहीं जाएगा.

दक्षिणी दिल्ली के डीसीपी विजय कुमार ने बताया, 'कुछ हफ्ते पहले बेंजी सिंह का एक ऑटोरिक्शा वाले से झगड़ा हुआ था. तबसे वो गुस्से में था और बदला लेना चाहता था. बुधवार तड़के ढाई बजे उसने खत्री को सोता देखा और उसे ऑटोरिक्शा वाला समझकर उसपर हमला कर दिया.'

डीसीपी ने ये भी बताया कि सिंह को अनिद्रा की बीमारी थी, जिसकी वजह से वो बहुत चिड़चिड़ा और गुस्सैल हो गया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi