In association with
S M L

यूपीः मदरसों पर सवाल उठाने वाले रिजवी को दाऊद की धमकी

वसीम रिजवी ने दावा किया है कि माफिया सरगना दाऊद इब्राहीम के गुर्गों ने उन्हें फोन पर धमकी दी है

Bhasha Updated On: Jan 14, 2018 05:52 PM IST

0
यूपीः मदरसों पर सवाल उठाने वाले रिजवी को दाऊद की धमकी

यूपी शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने दावा किया है कि माफिया सरगना दाऊद इब्राहीम के गुर्गों ने उन्हें फोन पर धमकी दी है. बीते आठ जनवरी को उन्होंने मदरसों को बंद कराने की अपील पीएम मोदी से की थी. उनका कहना था कि इन मदरसों में अातंक की शिक्षा दी जा रही है.

इस संबंध में रिजवी ने सआदतगंज थाने में रविवार को शिकायत दर्ज कराई है. इसमें उन्होंने दावा किया है कि उन्हें दाऊद इब्राहीम के गुर्गे ने फोन करके कहा कि वह मौलवियों से माफी मांगे, नहीं तो उनके परिवार को बम से उड़ा दिया जाएगा.

रिजवी ने मदरसों को ‘मानसिक कट्टरवाद’ को बढ़ावा देने वाला बताया था. सुझाव दिया था कि मदरसों को स्कूल में तब्दील करने और उनमें इस्लामी शिक्षा को वैकल्पिक बनाया जाए. सुझाव को लेकर पीएम मोदी और यूपी के सीएम योगी को पत्र लिखा था.

मदरसों को चलाने के लिए पैसा पाकिस्तान, बांग्लादेश से आता है 

पत्र में दावा किया था कि मदरसों में गलत शिक्षा मिलने की वजह से उनके छात्र धीरे-धीरे आतंकवाद की तरफ बढ़ जाते हैं. देश के ज्यादातर मदरसे जकात में दिए गए धन से ही चल रहे हैं.

यह धन बांग्लादेश और पाकिस्तान जैसे देशों से भी आ रहा है. यहां तक कि कुछ आतंकवादी संगठन भी मदरसों को माली मदद पहुंचा रहे हैं.

उन्होंने पत्र में कहा 'केंद्र सरकार से अनुरोध है कि भारत में मदरसा बोर्डों को समाप्त कर सभी मदरसों को स्कूल की श्रेणी में तब्दील कर दिया जाए. ऐसे स्कूलों को राज्य शिक्षा बोर्ड, सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड से पंजीकृत कराया जाए.'

रिजवी से मांगा गया 20 करोड़ का हर्जाना 

पत्र में यह भी लिखा कि मुस्लिम समाज के बच्चों को अपने निजी स्वार्थ और कट्टरपंथी मानसिकता के चलते मानसिक शोषण कर रहे कुछ संगठनों और कुछ मौलवियों की साजिश से बचाया जाना जरूरी है.

मुसलमानों के प्रमुख सामाजिक संगठन जमीयत उलमा-ए-हिन्द ने रिजवी को हाल में कानूनी नोटिस भेजकर 20 करोड़ रुपए बतौर हर्जाना मांगा था.

जमीयत उलमा-ए-हिन्द की महाराष्ट्र इकाई ने रिजवी को जारी नोटिस में कहा था कि शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष ने मदरसों को आतंकवाद और कट्टरवाद से जोड़कर उनका अपमान किया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
गणतंंत्र दिवस पर बेटियां दिखाएंगी कमाल!

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi