S M L

यूपी में 'मुखबिर योजना' की शुरूआत : बेटियों को पैदा होने से रोकने वाले होशियार

योजना के तहत बेटियों को पैदा होने से रोकने वालों पर कड़ी कार्रवाई का प्रावधान है

Updated On: Jun 24, 2017 08:53 PM IST

Bhasha

0
यूपी में 'मुखबिर योजना' की शुरूआत : बेटियों को पैदा होने से रोकने वाले होशियार

उत्तर प्रदेश में घटते लिंगानुपात पर कारगर ढंग से रोक लगाने के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार ने मुखबिर योजना की शुरूआत की है. योजना के तहत बेटियों को पैदा होने से रोकने वालों पर कड़ी कार्रवाई का प्रावधान है.

इस योजना के तहत ऐसे लोगों और संस्थाओं के खिलाफ कार्रवाई कर के उन्हें कानून के शिकंजे में लाया जाएगा, जो तकनीक का दुरूपयोग भ्रूण का लिंग पता कर के बेटियों को जन्म लेने से रोक रहे हैं.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, आज के समय घटता हुआ लिंगानुपात समाज की सबसे बड़ी समस्या है. इसे देखते हुए सरकार की ओर से मुखबिर योजना का शुभारंभ किया गया है. घटते लिंगानुपात को रोकने के लिए जन-जागरूकता और कानून की आवश्यकता है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेटियों पर होने वाले भेदभाव को खत्म करने और बेटियों को उनका हक दिलाने के लिए 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' योजना संचालित की है.

Yogi Aditynath

2011 के जनगणना के आधार पर यूपी में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं का औसत अनुपात 912 है

बालिका भ्रूण हत्या रोकना जनसहयोग के बिना संभव नहीं

मुख्यमंत्री ने कहा कि लिंग परीक्षण कर के बालिका भ्रूण हत्या रोकने का काम बिना जनसहयोग के संभव नहीं है. इसके लिए राज्य सरकार ने मुखबिर योजना शुरू की है. लिंग चयन और लिंग चयन के बाद विशेष लिंग की भ्रूण हत्या के अवैध कार्य में शामिल लोगों, केंद्रों, संस्थाओं की गोपनीय रूप से जांच की जाए और ऐसे लोगों, केन्द्रों, संस्थाओं को 'डिकॉय ऑपरेशन' के जरिए से प्राप्त सूचना के आधार पर दंडित किया जाएगा.

योगी ने कहा कि इस योजना के जरिए भ्रूण हत्या के संबंध में जनता से गोपनीय रूप से सूचना हासिल की जाएगी. ऐसे लोगों और संस्थाओं के खिलाफ कार्रवाई कर के उन्हें कानून के शिकंजे में लाया जाएगा, जो तकनीक का दुरूपयोग भ्रूण का लिंग पता कर के बेटियों को जन्म लेने से रोक रहे हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुखबिर योजना में आम जनता का सहयोग प्राप्त होने से उन डॉक्टरों में भय पैदा होगा, जो बेटी के पैदा होने से पहले ही भ्रूण हत्या करते हैं. इस योजना के लागू होने से घटते लिंगानुपात पर प्रभावी रोक लगेगी.

उन्होंने कहा कि प्रदेश के कुछ जनपदों में लिंगानुपात बहुत कम है वहां पर लघु फिल्म, लघु नाटक, गोष्ठियों आदि कार्यक्रमों के जरिए जनजागरूकता अभियान चलाया जाएगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi