S M L

UNHRC ने रोहिंग्याओं को वापस म्यांमार भेजने पर भारत से सफाई मांगी

एक अनुमान के मुताबिक भारत में यूएनएचआरसी से पंजीकृत शरणार्थी और शरण चाहने वाले 18 हजार रोहिंग्या हैं, जो देश के अलग अलग हिस्सों में रह रहे हैं

Updated On: Jan 05, 2019 10:02 PM IST

Bhasha

0
UNHRC ने रोहिंग्याओं को वापस म्यांमार भेजने पर भारत से सफाई मांगी

संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी ने रोहिंग्या शरणार्थियों के एक समूह को वापस म्यांमार भेजने के भारत के फैसले पर अफसोस जताया है. एजेंसी ने भारत से स्पष्टीकरण मांगा है कि किन परिस्थितियों के तहत उसने यह फैसला किया.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव के उप प्रवक्ता फरहान हक ने पत्रकारों से कहा, 'संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायोग (यूएनएचसीआर) कार्यालय ने शुक्रवार को कहा है कि उसे रोहिंग्या शरणार्थियों को भारत से वापस म्यांमार भेजे जाने पर अफसोस है, तीन महीने के भीतर दूसरी बार शरणार्थियों को वापस भेजा गया है.'

शरणार्थी एजेंसी ने कहा कि बृहस्पतिवार को वापस भेजे गए यह रोहिंग्या परिवार भारत में संयुक्त राष्ट्र के साथ पंजीकृत थे, जिन्हें असम में गिरफ्तार किया गया था. वह अ‍वैध रूप से भारत में दाखिल होने के आरोप में 2013 से जेल में बंद थे.

एजेंसी ने कहा कि हिरासत में लिए गए लोगों के हालात जानने और उनके लौटने के फैसले की स्वैच्छिकता का आकलन करने के लिए कई बार अनुरोध किए जाने के बावजूद भारत की ओर से कोई जवाब नहीं मिला.

अक्टूबर 2018 के बाद से तीसरा मामला:

यूएनएचसीआर ने कहा कि अक्टूबर 2018 के बाद से यह रोहिंग्याओं को वापस भेजे जाने का तीसरा मामला है. रोहिंग्या के लिए म्यांमार वापस लौटने के लिए हालात ठीक नहीं है.

एक अनुमान के मुताबिक भारत में यूएनएचआरसी से पंजीकृत शरणार्थी और शरण चाहने वाले 18 हजार रोहिंग्या हैं, जो देश के अलग अलग हिस्सों में रह रहे हैं.

असम के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (सीमा) भास्कर ज्योति महंत ने कहा है कि रोहिंग्या परिवार के पांच सदस्यों को म्यांमार प्राधिकारियों को सौंपा गया है.

महंत ने कहा, 'उन्हे पांच साल पहले बिना यात्रा दस्तावेजों और विदेशी व्यक्ति कानून का उल्लघंन करने के आरोप में हिरासत में लिया गया था.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi