S M L

यूक्रेन की महिला ने लगाया DM पर शादी रजिस्ट्रेशन के बदले रिश्वत मांगने का आरोप

वेरोनिका ने बागपत के अक्षत से शादी की और डीएम ऑफिस में अपनी शादी को रजिस्टर कराने के लिए चक्कर काट रही हैं. कथित तौर पर उनसे दो लाख रुपए रिश्वत के रूप में मांगे जा रहे हैं

FP Staff Updated On: Aug 11, 2018 07:04 PM IST

0
यूक्रेन की महिला ने लगाया DM पर शादी रजिस्ट्रेशन के बदले रिश्वत मांगने का आरोप

यूक्रेन की एक महिला ने ट्वीट कर केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज और राजनाथ सिंह समेत यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पीएम मोदी से बागपत जिला मजिस्ट्रेट की शिकायत की है. यूक्रेन की वेरोनिका ख्लिबोवा ने बागपत के डीएम पर अपनी शादी के पंजीकरण में रुकावट पैदा करने का आरोप लगाया है. वेरोनिका ने लिखा कि सभी आवश्यक दस्तावेजों को प्रस्तुत करने के बावजूद उनकी शादी को रजिस्टर करने में 'अनावश्यक बाधाएं पैदा की जा रही हैं'.

न्यूज़ 18 की खबर के मुताबिक वेरोनिका बागपत में रहने वाले अक्षत त्यागी से शादी करने के लिए 4 जून को भारत आईं थीं. शादी के रजिस्ट्रेशन के दौरान बागपत के डीएम ने कथित रूप से उन्हें परेशान किया.

अपने पहले ट्वीट में वेरोनिका ने कहा, 'हैलो सर, मुझे आपकी मदद चाहिए, मैं यूक्रेन की नागरिक हूं और मैं बागपत में रहने वाले एक भारतीय लड़के से प्यार करती हूं. हमने जिला मजिस्ट्रेट कार्यालय बागपत में शादी के रजिस्ट्रेशन के लिए अप्लाई किया था. उन्होंने जो भी दस्तावेज मांगे हमने वो सभी मुहैया करा दिए.'

अपने दूसरे ट्वीट में, उन्होंने आरोप लगाया कि- 'बागपत डीएम श्री ऋषिंद्र कुमार ने बहुत ही बेरुखी से बात की. ऐसे जैसे कि हम उनके दुश्मन हों. मैंने उन्हें दूतावास से मिला एनओसी दिया और पुलिस वेरिफिकेशन भी हो चुकी है. 35 दिन बीत चुके हैं. डीएम ने कहा कि वो दूतावास से मिले एनओसी को स्वीकार नहीं करेंगे. हमें क्या करना चाहिए. प्लीज मदद करें.'

वेरोनिका के पति अक्षत त्यागी ने कहा कि डीएम कार्यालय ने उन्हें आश्वासन दिया था कि उनकी स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत रजिस्टर होगी. लेकिन जब डीएम से संपर्क किया गया, तो कथित रूप से उन्होंने उनसे कहा, 'यूक्रेन एक ब्लैकलिस्टेड देश है और इसलिए शादी संभव नहीं है.' बहस और तर्क- वितर्क के बाद, उनकी शादी रजिस्टर हुई और दस्तावेजों के सत्यापन के लिए तारीख दी गई. जब दोनों नियत दिन वहां पहुंचे तो डीएम ने कहा कि एनओसी स्वीकार नहीं की जा सकती. दोनों का आरोप है कि उनसे रिश्वत के रूप में दो लाख रुपए भी मांगे गए क्योंकि वेरोनिका एक विदेशी नागरिक हैं.

हालांकि, डीएम ऋषिंद्र कुमार ने सभी आरोपों को खारिज कर दिया है. और वेरोनिका के ट्वीट पर उन्होंने उनसे सवाल भी पूछा है कि आखिर वो 7 अगस्त को किससे मिले थे क्योंकि 7 अगस्त को वह कार्यालय गए ही नहीं थे.

(न्यूज़18 के लिए काज़ी फराज़ अहमद की रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi