S M L

सबरीमाला मंदिर: 50 वर्ष से कम उम्र की दो महिलाओं ने फिर शुरू की चढ़ाई, हालात तनावपूर्ण

दोनों महिलाओं को पुलिस की तरफ से सुरक्षा दी जा रही है, अपनी चढ़ाई के दौरान इन महिलाओं को श्रद्धालुओं की नाराजगी भी झेलनी पड़ रही है, करीब 100 श्रद्धालु इन महिलाओं का विरोध कर रहे हैं

Updated On: Dec 24, 2018 10:56 AM IST

FP Staff

0
सबरीमाला मंदिर: 50 वर्ष से कम उम्र की दो महिलाओं ने फिर शुरू की चढ़ाई, हालात तनावपूर्ण

सबरीमाला मंदिर में प्रवेश को लेकर एक बार फिर हालात तनावपूर्ण होते नजर आ रहे हैं. सोमवार सुबह स्थिति उस समय तनावपूर्ण हो गई जब 50 वर्ष से कम आयु की दो महिलाओं ने मंदिर में प्रवेश के लिए एक बार फिर से चढ़ाई शुरू की. दोनों महिलाओं को पुलिस की तरफ से सुरक्षा दी जा रही है. अपनी चढ़ाई के दौरान इन महिलाओं को श्रद्धालुओं की नाराजगी भी झेलनी पड़ रही है. करीब 100 श्रद्धालु इन महिलाओं का विरोध कर रहे हैं. इसी बीच खबर है कि दोनों महिलाओं को मंदिर से 2 किलोमीटर पहले अपाचीमेडू में रोक दिया गया है.

विरोध कर रहे प्रदर्शनकारी महिलाओं के खिलाफ नारे लगा रहे हैं

इससे पहले रविवार को 11 महिलाओं के मंदिर जाने के विरोध में कई श्रद्धालुओं ने उनका रास्ता रोकने की कोशिश की थी लेकिन पुलिस ने उन्हें हटा दिया था और इसका विरोध कर रहे कई लोगों को हिरासत में भी लिया था. न्यूज 18 की रिपोर्ट के अनुसार 46 वर्षीय कनकदुर्गा, मलप्पुरम की निवासी और कोझीकोड की रहने वाली बिंदू, आज मंदिर की तरफ जा रहे हैं. वहीं उनका विरोध कर रहे प्रदर्शनकारी उनके खिलाफ नारे लगा रहे हैं.

केएसआरटीसी की बस से दोनों महिलाएं पहले सुबह पम्पा पहुंचीं 

प्राप्त जानकारी के अनुसार केएसआरटीसी की बस से दोनों महिलाएं पहले सुबह पम्पा पहुंचीं और पवित्र मंदिर की यात्रा शुरू की. वह सुबह 7.30 बजे तक मरकूटटोम पहुंच गए थे क्योंकि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए बल का प्रयोग किया था. बिंदू ने सबरीमाला मंदिर जाने के रास्ते पर मीडिया से कहा- हम यहां भगवान अयप्पा के दर्शन (प्रार्थना की पेशकश) करने जा रहे हैं. सुप्रीम कोर्ट के आदेश को लागू किया जाना चाहिए और उम्मीद है कि पुलिस हमें सुरक्षा प्रदान करेगी. बता दें कि रविवार की सुबह 50 साल से कम उम्र की 11 महिलाओं के एक समूह ने भगवान अयप्पा के दर्शन के लिए सबरीमाला मंदिर पहुंचने की कोशिश की थी.

सभी महिलाएं चेन्नई स्थित 'मानिथि' संगठन की सदस्य थीं

महिलाओं के समूह ने मंदिर परिसर से लगभग पांच किलोमीटर दूर पारंपरिक वन पथ के माध्यम से अयप्पा मंदिर पहुंचने की कोशिश की थी लेकिन श्रद्धालुओं के विरोध की वजह से वह आगे नहीं बढ़ सकी थीं. ये सभी महिलाएं चेन्नई स्थित 'मानिथि' संगठन की सदस्य थीं. सबरीमाला मंदिर में 10-50 वर्ष की आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश पर पारंपरिक रूप से लगी रोक के खिलाफ आदेश देकर सुप्रीम कोर्ट ने 28 सितंबर को सभी आयु वर्ग की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश और पूजा की अनुमति दे दी थी. तब से मंदिर में प्रवेश को लेकर कई बार प्रदर्शन हो चुके हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi