S M L

अमेरिकी नागरिक चाऊ को सेंटीनल द्वीप पर भेजने के पीछे था दो अमेरिकन मिशनरियों का हाथ

इन्हीं मिशनरियों ने चाऊ को इन आदिवासियों का धर्मांतरण कराने के लिए सेंटनिल द्वीप जाने को कहा था

Updated On: Dec 02, 2018 12:57 PM IST

FP Staff

0
अमेरिकी नागरिक चाऊ को सेंटीनल द्वीप पर भेजने के पीछे था दो अमेरिकन मिशनरियों का हाथ

अंडमान और निकोबार द्वीप पर अमेरिकी पर्यटक जॉन ऐलन चाऊ की सेंटिनेलिस जनजातीय समुदाय द्वारा कथित तौर पर हत्या मामले में पुलिस ने यह खुलासा किया है कि चाऊ को यहां भेजने के पीछे दो अमेरिकन मिशनरियों का हाथ है. इन्हीं मिशनरियों ने चाऊ को इन आदिवासियों का धर्मांतरण कराने के लिए सेंटनिल द्वीप जाने को कहा था.

अंडमना निकोबार पुलिस के प्रमुख ने कहा कि ये संदिग्ध देश छोड़कर जा चुके हैं, लेकिन हमें अभी तक चाऊ की लाश बरामद नहीं हुई. फिलहाल हम उन दोनों मिशनरियों की भूमिका की जांच कर रहे हैं.

अंडमान-निकोबार द्वीप समूह के पास नॉर्थ सेंटीनल द्वीप पर हुए एक 26 साल के अमेरिकी नागरिक जॉन एलन चाऊ की हत्या के बाद उनका शव लाने की कोशिशें की जा रही हैं. चाऊ की इस द्वीप पर रहने वाले आदिवासियों ने हत्या कर दी थी, क्योंकि वो उनकी तरफ से बार-बार दी जाने वाली चेतावनियों के बावजूद भी उनके द्वीप पर घुसने की कोशिश कर रहे थे.

आखिर क्यों यह संस्था नहीं चाहती कि चाऊ का शव वापस आए?

ये द्वीप दुनिया भर में ऐसी जगहों में शामिल है, जहां अभी तक बाहरी दुनिया से कोई नहीं पहुंचा है. यहां रहने वाले आदिवासी भी बाहरी लोगों से मेलजोल नहीं करना चाहते.

जहां एक तरफ अंडमान की पुलिस जॉन एेलन चाऊ के शव को वापिस लाने की कोशिशों में जुटी हुई है. वहीं आदिवासियों के लिए काम करने वाली एक संस्था ने अंडमान पुलिस से चाऊ का शव न लाने का अनुरोध किया है.

न्यूज18 हिंदी की खबर के मुताबिक, आदिवासियों के लिए काम करने वाली संस्था सर्वाइवल इंटरनेशनल ने कहा है कि ऐसी कोशिशें भारतीय पुलिस और सेंटिनल आदिवासियों के लिए खतरनाक हो सकती है. संस्था ने कहा कि अगर आदिवासियों को कोई रोग लग गया तो वह 'खत्म' हो जाएंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi