S M L

अब गाय के गोबर से बनाई जाएगी बायोगैस, दिल्ली में लगेंगे दो प्लांट

इन दोनों प्लांट में 400 मीट्रिक टन गोबर की प्रोसेसिंग की जाएगी और इससे बायोगैस बनाया जाएगा

Updated On: Oct 16, 2018 04:28 PM IST

FP Staff

0
अब गाय के गोबर से बनाई जाएगी बायोगैस, दिल्ली में लगेंगे दो प्लांट
Loading...

अब दिल्ली में गाय के गोबर का संशोधन यानी प्रोसेसिंग की जाएगी. इसके दक्षिणी दिल्ली के म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन ने इसकी तैयारी भी कर ली है.

दक्षिणी दिल्ली में दो जगह- नांगलोई और गोयला डेयरी कॉलोनी में दो प्रोसेसिंग प्लांट लगाए जाएंगे. इन दोनों प्लांट में 400 मीट्रिक टन गोबर की प्रोसेसिंग की जाएगी और इससे बायोगैस बनाया जाएगा.

टाइम्स ऑफ इंडिया के रिपोर्ट की मानें तो स्वच्छ भारत मिशन के तहत निकाय ने इस प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी है. इसके लिए 18 महीने की डेडलाइन भी सेट की गई.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस पूरे प्रोजेक्ट में हर प्लांट पर 58 करोड़ की लागत लगने वाली है. ये टेंडर बिल्ड-ऑपरेट-ट्रांसफर मोड में किया जाएगा. इस टेंडर के तहत एसएडएमसी को बस 3 करोड़ ही चुकाने होंगे, इसके बाद निजी कंपनियां या संस्थान ही इसका खर्च उठाएंगे.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इन दोनों प्लांट में 200-200 मीट्रिक टन गोबर प्रोसेस किया जाएगा और इससे 32,000 केजी बायोगैस निकलेगी. उन्होंने बताया कि एसडीएमसी इस प्रोजेक्ट पर 110 करोड़ रुपए की बचत करेगी.

अधिकारी ने बताया कि केंद्र के वेस्ट मैनेजमेंट नियम के तहत एसडीएमसी पर गाय के गोबर के निस्तारण के लिए सही तरीका ढूंढने का दबाव है. एसडीएमसी भी इस दिशा में प्रोसेसिंग, मैनेजमेंट और डिस्पोजल क्षमता को बढ़ाने की कोशिश कर रहा है.

इस टेंडर के तहत प्लांट को संभाल रही प्राइवेट कंपनी ही इसको डिजाइन करेगी. उसे ही फाइनेंस, कन्सट्रक्शन, कमीशन, ऑपरेशन और मेंटेनेंस को 20 सालों तक देखना होगा. वो इससे निकलने वाली बिजली से अपनी लागत वसूल सकती हैं. ये कंपनियां गायों के मालिकों से पार्टनरशिप करेंगे. इन मालिकों को 656 रुपए प्रति टन दिए जाएंगे.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi