S M L

जम्मू कश्मीर: गोलीबारी में घायल होने से 14 वर्षीय बच्ची समेत दो लोगों की मौत

राज्य में मानवाधिकारों के उल्लंघन का रिकॉर्ड रखने वाली एक संस्था का कहना है कि 1 जनवरी से 24 नवंबर, 2018 तक जम्मू-कश्मीर में कम से कम 520 लोग मारे गए हैं. इसमें 144 नागरिक, 234 आतंकवादी और सशस्त्र बलों और पुलिस के 142 सदस्य शामिल हैं

Updated On: Nov 24, 2018 10:31 PM IST

FP Staff

0
जम्मू कश्मीर: गोलीबारी में घायल होने से 14 वर्षीय बच्ची समेत दो लोगों की मौत

गुरुवार को जम्मू-कश्मीर में गोलीबारी की दो अलग-अलग घटनाओं में एक नाबालिग लड़की समेत दो लोग मारे गए हैं.

इश्फाक अहमद गनी, शुक्रवार की शाम को कश्मीर के बडगाम जिले में भारतीय सेना के एक शिविर के पास रहस्यमय शूटिंग में घायल हो गए थे. इसके बाद श्रीनगर के शेरी कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एसकेआईएमएस) में उनकी मृत्यु हो गई.

स्थानीय रिपोर्टों में गोलीबारी के लिए सेना को दोषी ठहराया गया है. वहीं सुरक्षा बलों ने कहा है कि उन्हें आतंकवादियों ने गोली मारी है. सेना के प्रवक्ता राजेश कालिया ने एक बयान में कहा था कि छत्रगाम में सेना के शिविर से 500-600 मीटर दूर आतंकवादियों ने गनी को गोली मार दी थी.

कालिया ने यह भी कहा कि सैनिक गनी को छत्रगाम अस्पताल ले गए जहां से डॉक्टरों ने उन्हें श्रीनगर ट्रांसफर कर दिया. बडगाम के पुलिस अधीक्षक तेजिंदर सिंह ने कहा, 'हम परिस्थितियों का जायजा ले रहे हैं कि आखिर गनी घायल कैसे हुआ था.' उन्होंने गनी के मौत की पुष्टि की है.

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार गुरुवार सुबह दक्षिण कश्मीर के कुल्गाम जिले के खुदवानी इलाके में सैनिको और आतंकवादियों के बीच गोलीबारी में 14 साल की जान घायल हो गई थी. गोली लगने की वजह से बच्ची गंभीर रुप से घायल हो गई थी. बाद में अस्पताल में उसकी मौत हो गई.

कुलगाम के पुलिस कंट्रोल रुम के अधिकारियों ने कहा कि आतंकवादियों ने राष्ट्रीय राइफल्स कैंप पर आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरु कर दी थी. सैनिकों ने फिर जवाबी फायरिंग की. बच्ची को क्यूमोह के एक स्थानीय अस्पताल ले जाया गया जहां से उसे श्रीनगर के एक अस्पताल में भेजा गया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi