विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

TVF के अरुणाभ कुमार पर लगे यौन शोषण के आरोप का सच क्या है?

मीडियम.कॉम पर एक पूर्व टीवीएफ कर्मचारी ने लगाया है आरोप

Tulika Kushwaha Updated On: Mar 14, 2017 01:04 PM IST

0
TVF के अरुणाभ कुमार पर लगे यौन शोषण के आरोप का सच क्या है?

पॉपुलर यूट्यूब चैनल 'द वायरल फीवर' (टीवीएफ) के फाउंडर अरुणाभ कुमार पर टीवीएफ की पूर्व कर्मचारी ने यौन शोषण का आरोप लगाया है.

'मीडियम.कॉम' पर इंडियन फाउलर नाम की एक ब्लॉगर ने टीवीएफ में काम करने के दौरान अरुणाभ कुमार पर उन्हें सेक्सुअली प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है. इस ब्लॉग के ट्रेंड हो जाने के बाद आश्चर्यजनक रूप से कई महिलाओं ने भी अरूणाभ पर इसी तरह के आरोप लगाए हैं.

इंडियन फाउलर नाम के इस यूजर ने ये ‘इंडियन उबर’ है कहते हुए उस घटना की ओर इशारा किया, जब अमेरिका में सुज़न फाउलर नाम की एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने एक उबर कर्मचारी पर यौन शोषण का आरोप लगाया था.

'विक्टिम को पुलिस केस फाइल करना चाहिए'

इस मसले पर मुंबई मिरर से बातचीत में अरुणाभ ने इन आरोपों को झूठा बताया है. साथ ही अरुणाभ ने यहां तक कहा कि अगर ऐसी कोई घटना हुई है, तो विक्टिम को मेरे खिलाफ एफआईआर दर्ज कराना चाहिए या टीवीएफ के एचआर में ये मुद्दा उठाना चाहिए.

अरुणाभ का कहना है, ‘मैं बिना शर्त और साफ तौर पर इन आरोपों को खारिज करता हूं. सोशल मीडिया पर मुझे पहले ही दोषी साबित कर दिया गया है लेकिन मैं अपने ऊपर लगे सभी आरोपों का सामना करने को तैयार हूं. मैं पुलिस कंप्लेन के लिए भी तैयार हूं ताकि मैं कानूनी रूप से भी इस मामले को हैंडल कर सकूं.’

अरुणाभ ने आगे कहा, ‘टीवीएफ मुझसे बड़ा है. और अगर इस बात की थोड़ी भी गुंजाइश है कि मैंने कुछ गलत किया है, तो मैं सजा के लिए तैयार हूं.’

अरुणाभ ने ये भी बताया है कि टीवीएफ ने मीडियम.कॉम से बात करके इंडियन फाउलर ब्लॉग की विश्वसनीयता जांचने को कहा है. मीडियम अगले 48 घंटों में इस बाबत जानकारी देगा. अगर ये ब्लॉग फेक होगा, तो इसे हटा लिया जाएगा.

क्या हैं आरोप?

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि जैसे ही ये ब्लॉग ट्रेंड होने लगा, टीवीएफ की एक अन्य पूर्व  कर्मचारी आयुषी अग्रवाल और टीवीएफ के लिए एक वेब सीरीज डायरेक्ट कर चुकीं रीमा सेनगुप्ता इस ब्लॉगर के समर्थन में उतर गईं. इन दोनों ने भी टीवीएफ के साथ अपने काम के दौरान अरुणाभ कुमार की ओर से यौन शोषण की कोशिशों का जिक्र किया.

क्वार्टज.कॉम ने बताया है कि इंडियन फाउलर नाम की इस मीडियम यूजर ने बताया है कि उन्हें टीवीएफ में काम करते हुए तीन हफ्ते हुए थे. उनसे शाम को ऑफिस आने को कहा गया. जब वो ऑफिस में पहुंची तो ऑफिस में बस अरुणाभ थे. बाकी लोग निकल चुके थे.

‘हम दोनों एक ही जगह से आते हैं- मुजफ्फरपुर से. इसलिए काम के दौरान हम 'मैं' से 'हम' पर आ गए. अरुणाभ ने मुझसे पूछा कि ‘तुम चतुर्भुज स्थान (मुजफ्फरपुर में रेड लाइट एरिया) के बारे में जानती हो? मुझे ये जगह बहुत पसंद है. यहां कमर्शियल डील्स होती हैं. तुम भी तो कमर्शियल डील से ही आई हो न. मैं बिल्कुल हैरान रह गई. मैंने बोला, ‘ अरुणाभ आप हमारे भाई जैसे हैं. जो भी काम है, हमें बताइए हम खत्म करके घर जाएंगे. इसके बाद उसने मेरा हाथ पकड़कर कहा, ‘थोड़ा रोल प्ले करें. उसके बाद मैंने खुद को बाथरूम में बंद कर लिया और अरुणाभ के जाने के बाद ही वहां से निकली.’

इस ब्लॉगर ने आगे ये भी लिखा है, ‘जब मैंने पुलिस में शिकायत करने की बात की तो अरुणाभ ने कहा पुलिस तो मेरी जेब में है.’

TVF ने आरोपों को हास्यास्पद बताया

'द वायरल फीवर' की टीम ने इन आरोपों को खारिज करते हुए आधारहीन और हास्यास्पद बताया है. इस स्टेटमेंट में आगे कहा गया है, ‘हम इस ब्लॉग के राइटर को किसी भी हालत में ढूंढ निकालेंगे और झूठा आरोप लगाने के खिलाफ न्याय की मांग करेंगे.'

हालांकि इस स्टेटमेंट में धमकी के पुट को नजरअंदाज करना मुश्किल है.

अरुणाभ कुमार आईआईटी ग्रेजुएट हैं. उन्होंने 2011 में अपना यूट्यूब चैनल 'द वायरल फीवर' शुरू किया था.

इस ब्लॉगर ने टीवीएफ के एक शो 'पिचर्स' के एक्टर नवीन कस्तूरिया से इस बारे में बात की तो जबाव आया, ‘दुनिया है. होता है.’

हालांकि, टीवीएफ की टीम के स्टेटमेंट के अलावा और भी कइयों ने इन आरोपों को खारिज किया है.

द क्विंट ने कहा है कि इन आरोपों पर नवीन कस्तूरिया ने कहा है कि वो ऐसी किसी कर्मचारी से कभी नहीं मिले हैं और उनका इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है. उनका कहना है कि ये ब्लॉग फेक है.

वहीं टीवीएफ की कास्टिंग डायरेक्टर निधि बिष्ट ने इन आरोपों पर हैरानी जताई है. उन्होंने कहा है, ‘टीवीएफ औरतों के लिए काम करने के लिए बेस्ट जगह है. मैं यहां पिछले 5 सालों से हूं और मुझे आजतक इस जगह ने बहुत सम्मान दिया है, खासकर अरुणाभ ने. जरूरी नहीं है कि सभी का अनुभव एक जैसा ही हो. मैंने बाकी के एंप्लॉईज से बात की है, ऐसी किसी एंप्लॉई का कोई रिकॉर्ड नहीं है. मतलब ये आरोप झूठे हैं.

इन आरोपों के बाद ट्विटर पर काफी लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है. कुछ लोग इस घटना की आलोचना कर रहे हैं और इस फील्ड में फैली असमानता और औरतों के लिए मुश्किल स्थितियों का जिक्र किया है. वहीं कुछ लोगों ने इन आरोपों को खारिज कर दिया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi